IMD Alert : 10 राज्यों में 12 दिसंबर तक भारी बारिश का कहर, चलेगी तेज हवाएं, गरज-चमक-शीतलहर की चेतावनी, डिप्रेशन होगा विकसित, जानें पूर्वानुमान

IMD Alert, Aaj ka Mausam : देश में लगातार मौसम में बदलाव देखा जा रहा है। 7 दिसंबर को तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में बारिश की गतिविधि देखी जाएगी। 7 से 10 दिसंबर तक दक्षिण बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र निर्मित होगा। जिसके डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई गई है। डिप्रेशन में बदलने के साथ ही अगले 7 से 8 दिनों तक दक्षिण पूर्वी राज्यों में भारी बारिश का कहर देखने को मिलेगा। आंध्र और पांडिचेरी के आसपास भारी बारिश का येलो ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है।

गर्म सर्दी का असर

मौसम विभाग के मुताबिक इस बार गर्मी सर्दी का पूर्वानुमान जताया गया है। पंजाब हरियाणा चंडीगढ़ नई दिल्ली सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश में इस वर्ष सर्दी सामान्य से नीचे रिकॉर्ड की जाएगी। जिसे गर्म सर्दी का दर्जा दिया गया है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक पूर्व और पूर्वोत्तर के अधिकार क्षेत्र सहित मध्य भारत में जनवरी और फरवरी में मौसम पूरी तरह से सामान्य बना रहेगा।

बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र उत्पन्न हुआ है, जो जल्द डिप्रेशन में बदल सकता है। इसके कारण 10 से 12 दिसंबर तक भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया गया है। बारिश की तीव्रता में वृद्धि होगी। तेज गरज चमक के साथ हवाएं चलेंगी। निम्न दबाव के चक्रवात के रूप में परिवर्तित होने की संभावना तेज हो गई है। दरअसल मौसम विभाग वैज्ञानिकों ने लो प्रेशर के डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक दिसंबर से फरवरी तक सर्दी के प्रभाव को लेकर पूर्वानुमान जारी किया गया है। आंध्र प्रदेश सहित दक्षिणी राज्यों के कई हिस्से में भारी बारिश का कहर जारी रहेगा जबकि 3 महीने में ठंड ज्यादा रहने की बात कही जा रही है। उत्तर भारत में बात करें तो उत्तर भारत में सर्द हवाएं चलने का पूर्वानुमान जारी किया गया। हालांकि मौसम सामान्य बना रहेगा।

इन क्षेत्रों में बदलेगा मौसम

  • पर्वतीय राज्य में बर्फबारी का कहर जारी है।
  • जम्मू कश्मीर लेह लद्दाख गिलगित सहित उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी तेज हो गई है।
  • न्यूनतम तापमान में गिरावट जारी है।
  • पारा माइनस के पार पहुंच गया है जलवायु संबंधित कारणों और पूर्वी हवा के प्रभाव के कारण कुछ राज्यों में तापमान में वृद्धि भी देखने को मिल रही है।
  • समुद्र की सतह में वायुमंडलीय भूमध्यरेखीय प्रशांत महासागर के ऊपर ला नीना की बदलती स्थिति के कारण मौसम में जल्दी बड़ा बदलाव दिखेगा।
  • थडरक्वाल की संभावना
  • 4 दिसंबर को निकोबार दीप समूह में भारी बारिश के साथ व्यापक रूप से मध्यम बारिश का पूर्वानुमान जताया गया है। साथ ही अंडमान और निकोबार दीप समूह के अलग-अलग स्थानों पर थडरक्वाल की संभावना जताई गई है।
  • लो-प्रेशर का प्रभाव

इसके अलावा अन्य मौसम प्रणाली पर चर्चा की जाए जो दक्षिणी प्रायद्वीपीय भारत में गरज के साथ छिटपुट वर्षा का पूर्वानुमान जताया गया है। साथ ही एक कम दबाव वाला क्षेत्र का ताजा साइक्लोनिक सरकुलेशन रविवार और सोमवार को दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर बनने की उम्मीद है। जिसके डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई गई है। पश्चिमी विक्षोभ बुधवार तक डिप्रेशन में विकसित हो सकता है। जिसके कारण पश्चिम की और ट्रैक करने के बाद इसकी तीव्रता में वृद्धि होगी। मौसम विभाग के मुताबिक रविवार और सोमवार को अंडमान निकोबार द्वीप समूह पर भारी बारिश के साथ 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना जताई गई है।

पंजाब में येलो अलर्ट

हिमाचल प्रदेश पंजाब में येलो अलर्ट जारी किया गया। राज्य में 3 दिन मंगलवार तक घना कोहरा छाए रहने का पूर्वानुमान जारी किया गया है। मौसम में बदलाव दिखेगा। भारी कोहरे को लेकर प्रशासन द्वारा लोगों को जागरूक रहने के निर्देश दिए गए हैं।

मौसम प्रणाली सक्रिय

पूर्वोत्तर मानसून नवंबर में सक्रिय नहीं होने के साथ ही राज्य में कम वर्षा का पूर्वानुमान जताया गया था। हालांकि दिसंबर में लगातार सक्रिय होने की वजह से दिसंबर के महीने में दक्षिणी राज्यों में भारी से अधिक वर्षा का पूर्वानुमान जताया गया है। आईएमडी ने भविष्यवाणी की है कि कम दबाव का क्षेत्र चेन्नई और उत्तरी तमिलनाडु में भारी बारिश और तेज हवाओं का कारण बनेगा।

बारिश गरज चमक की चेतावनी

  • अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भारी बारिश और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।
  • मध्य, पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत के छिटपुट स्थानों पर हल्का से मध्यम कोहरा संभव है।
  • तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल और लक्षद्वीप में छिटपुट बारिश के साथ गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।
  • उत्तरी भारत, हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर सुबह-सुबह घना कोहरा छा सकता है।
  • उत्तर और मध्य भारत में हवा की गुणवत्ता “बहुत खराब” है।
  • बिजली गिरने की संभावना के साथ तटीय और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल – माहे में अलग-अलग बारिश की संभावना है।