देश में गरीबी को लेकर देश के सबसे अमीर शख्स ने कही यह बड़ी बात

वर्ष 2050 तक भारतीय अर्थव्यवस्था 30 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी। इसी के साथ देश में भुखमरी की समस्या ख़त्म हो जाएगी।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। एशिया और भारत के सबसे अमीर व्यक्ति और अडानी समूह के चेयरमैन गौतम अडानी ने भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा है कि वर्ष 2050 तक भारतीय अर्थव्यवस्था 30 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी। इसी के साथ देश में भुखमरी की समस्या ख़त्म हो जाएगी।

यह भी पढ़ें- SBI Bank ने अपने ग्राहकों के लिए बहुत ही जरूरी सूचना जारी की है, जरूर पढ़ें वरना हो सकता है बड़ा नुकसान

उन्होंने इंडिया इकनॉमिक कॉन्क्लेव में बताया कि “वर्ष 2050 आने में लगभग 10 हजार दिन बचे हैं। इस दौरान उन्होंने विश्वास जताया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में लगभग 25 ट्रिलियन डॉलर की वृद्धि हो जाएगी। इन आकड़ो के हिसाब से देखा जाए तो प्रतिदिन देश की अर्थव्यवस्था में करीब 2.5 बिलियन डॉलर की वृद्धि हर दिन होगी और उन्हें आशा है कि इस समय तक भारत में पूरी तरह गरीबी खत्म हो चुकी होगी”

यह भी पढ़ें- Indore News : विधायक आकाश विजयवर्गीय का ये वीडियो इसलिए हो रहा है तेजी से वायरल

45 ट्रिलियन का होगा भारतीय शेयर बाजार: गौतम अडानी ने विश्वास जताया कि मौजूदा गति के हिसाब से यदि भारतीय अर्थव्यवस्था बढ़ती है तो भारतीय शेयर मार्केट की वैल्यूएशन में 2050 तक प्रतिदिन 4 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा की वृद्धि और शेयर मार्केट की वैल्यू करीब 40 ट्रिलियन डॉलर से अधिक हो जाएगी।

भारत में घट रही गरीबी: वर्ल्ड बैंक के ताजा जानकारी के अनुसार भारत में पिछले दशक में अत्यधिक गरीबो की संख्या में 12.3 फीसदी की बड़ी गिरावट आई है। 2011 में भारत में अत्यधिक गरीबी जहां 22.5 फीसदी थी जो 2019 में काम होकर 10.2 फीसदी रह गई है।

यह भी पढ़ें- Credit card और Debit card ग्राहकों के लिए जरूरी सूचना, 1 जुलाई से लागू होगा यह नियम

बता दे कि दुनिया के छ्ठे सबसे अमीर व्यक्ति: अडानी ग्रुप के मुख्य गौतम अडानी दुनिया के अमीरों को सूची में छ्ठे सबसे धनी व्यक्ति हैं। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के अनुसार उनकी संपत्ति करीब 119 बिलियन डॉलर की है। इस वर्ष अडानी की संपत्ति दुनिया में सबसे अधिक वृध्दि हुई है, उनकी संपत्ति में लगभग 42.4 बिलियन की बढ़ोतरी हुआ है जबकि पिछले वर्ष उनकी संपत्ति करीब 81 बिलियन डॉलर थी।