All India Muslim Personal Law Board ने की टीवी चैनल्स के बहिष्कार की अपील, पढ़ें पूरी खबर

बोर्ड के पदाधिकारियों ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी कर कहा है कि ऐसे कार्यक्रमों का उद्देश्य रचनात्मक चर्चा कर किसी निष्कर्ष पर पहुंचना नहीं बल्कि इस्लाम का उपहास उड़ाना है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में हर तरफ हिन्दू मुसलमान (Hindu Muslim) के बीच एक खाई पैदा करने का माहौल बनाया जा रहा है, हालांकि सरकारें और दोनों समाजों के धर्म गुरु इस नफरत को फैलने से रोकने की काफी हद तक कोशिश कर रहे हैं लेकिन चंद उन्मादी और समाज विरोधी तत्व माहौल में घी (Hindu Muslim controversy) डालने का काम कर रहे हैं।

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद से शुरू हुए विवाद के बाद निलंबित भाजपा नेत्री नूपुर शर्मा के पैगम्बर मोहम्मद के खिलाफ की गई टिप्पणी ने माहौल को और गरम कर दिया, उत्तर प्रदेश से लेकर कई राज्यों में पत्थरबाजी की घटनाएं हुई , जुमे की नमाज के बाद भी देश में कई जगह उपद्रव हुआ।

ये भी पढ़ें – मप्र निकाय चुनाव 2022: बीजेपी ने घोषित की जिला चयन समिति, यहां देखें लिस्ट

इस बीच जुमे यानि शुक्रवार 10 जून को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (All India Muslim Personal Law Board) ने समाज के बुद्धिजीवियों और उलमाओं से टीवी चैनल्स पर होने वाली डिबेट में भाग नहीं लेने की अपील करते हुए टीवी चैनल्स के बहिष्कार की अपील की है। बोर्ड के पदाधिकारियों ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी कर कहा है कि ऐसे कार्यक्रमों का उद्देश्य रचनात्मक चर्चा कर किसी निष्कर्ष पर पहुंचना नहीं बल्कि इस्लाम का उपहास उड़ाना है।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : सोने में उछाल, चांदी भी बेहाल, देखें बाजार का हाल

ऐसे कार्यक्रमों में शामिल होकर बुद्धिजीवी और उलमा इस्लाम और मुसलमानों की कोई सेवा नहीं कर रहे हैं उल्टा परोक्ष रूप से इस्लाम और मुसलमानों का अपमान और उपहास ही करते हैं, इसलिए ऐसे टीवी चैनल का बहिष्कार करना ही उचित है।

All India Muslim Personal Law Board ने की टीवी चैनल्स के बहिष्कार की अपील, पढ़ें पूरी खबर