सुप्रीम कोर्ट में हुई 5 नए जजों की नियुक्ति, इन नामों को मिली केंद्र सरकार की मंजूरी

Supreme Court, note for vote

Appointment In Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट को पाँच नए जज मिल चुके हैं। लंबे समय सुर्खियों में रहे कॉलेजियम की सिफारिश को केंद्र सरकार की मंजूरी मिल चुकी है। जजों के प्रोमोशन पर राष्ट्रपति ने मुहर लगा दी है। भारतीय संविधान के प्रवधानों के मुताबिक देश के विभिन्न हाईकोर्ट के पाँच जजों को सुप्रीम कोर्ट के लिए नियुक्त किया गया है। जिसके लिए आदेश भी जारी हो चुके हैं। इस बात की जानकारी कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) ने ट्वीट करके दी है।

इन नामों पर लगी मुहर

राजजस्थान हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस पंकज मित्तल के नाम को मंजूरी मिली है। वहीं पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस संजय करोल और जज अहसानूद्दीन अमानुल्लाह को भी नाम लिस्ट में शामिल है। मणिपुर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस पीवी संजय कुमार को भी नई जिम्मेदारी सौंपी गई है। इलाहाबाद हाई कोर्ट के जज मनोज मिश्रा के लिए वारंट जारी हो चुका है।

बढ़ी सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या

इस नियुक्ति के बाद से सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या बढ़कर 32 हो चुकी है। रिपोर्ट की माने तो अगले सप्ताह सोमवार के दिन जजों का शपथ ग्रहण करवाया जाएगा। यह भी कहा जा रहा है कि दो अन्य सिफारिशों को अगले सप्ताह तक मंजूरी मिल सकती है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News