आटो रिक्शा के किराए में हुई बढ़ोत्तरी, मिनिस्टर ने की घोषणां।

महंगाई की मार झेल रही आम जनता के लिए निश्चित ही अब सोचने वाली बात यह रहेगी की कहां पैसा लगाया जाए और कहां बचाया जाए।

गांधीनगर, डेस्क रिपोर्ट। महंगाई इस वक्त नाइटोर्जन सिलेंडर लगाकर पूरी रफ्तार से दौड़ रही है, रोज़ मर्रा की वस्तुओं के दाम आसमान छूने को हैं। एक चीज़ की मंहगाई का असर सीधे सीधे दूसरी पर पड़ता साफ दिखाई दे रहा है। एक ओर जहां पेट्रोल डीजल के दाम रोज़ नए आयाम छू रहे हैं वहीं इसका सीधा असर ट्रांसपोर्टर के बढ़ते किराए के रूप में देखा जा सकता है। आखिरकार किराया कोई भी बढ़ाए मरना आम इंसान का ही होता है। ऐसे में अब जो लोग पैसे बचाने के लिए अपनी कार या स्कूटर की जगह ऑटो रिक्शा इस्तेमाल करते थे उनके लिए यह खबर तसल्ली देने वाली नही हैं।

आटो रिक्शा के किराए में हुई बढ़ोत्तरी, मिनिस्टर ने की घोषणां।

गुजरात सरकार के परिवहन मंत्री ने ऐलान करते हुए बताया है कि सरकार जल्द ही ऑटो रिक्शा के किरायों में बढ़ोत्तरी करने जा रही हैं। सरकार द्वारा यह फैसला महंगाई की मार झेल रहे ऑटो चालकों की दिवाली के बाद बंद (strike) की चेतावनी देने के बाद लिया गया है।

9 नवंबर को POCO करेगा अपना न्यू 5G फोन लॉन्च, जाने इसकी खासियत

परिवहन मंत्री (transport minister) पूर्णेश मोदी (purnesh modi) की ऑटो रिक्शा यूनियन (auto rickshaw union) की मीटिंग के बाद यह फैसला लिया गया। आपको बता दें इस फैसले के बाद 5 नवंबर से नए किराए लागू कर दिए जाएंगे।

ये क्या, लाहौर दिल्ली से जीत गया।

फैसले के बाद अब 5 नवंबर से सवारियों को न्यूनतम किराया (minimum fare) 18 रुपए का देना होगा जो अब तक 15 रुपए था। बात करें प्रति किलोमीटर किराए (per kilometre fare) की तो इसे भी 10 रुपए से बढ़ाकर अब 13 रूपय कर दिया है। अगर आप ऑटो रिक्शा को रोककर (waiting fare) सामान खरीदने की सोच रहे हैं तो अब यह आपकी जेब के लिए थोड़ा भारी पड़ेगा क्योंकि अब से ऑटो वेटिंग का किराया 1 रुपए प्रति पांच मिनट की जगह 1 रुपए प्रति 1 मिनट लगेगा (one rupee per minute) जिसके बाद निश्चित ही आप ऑटो को इंतजार कराना नहीं चाहेंगे।

कर्मचारियों की दिवाली होगी रौशन, नवंबर महीने में खाते में आएंगे 90 हजार रूपए, जाने नई अपडेट

महंगाई ने आम जनता हर ओर से घेर लिया है, आमदनी के स्त्रोत सीमित हैं और खर्चे हैं कि प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं। ऐसे में अब देखना होगा कि महंगाई के चक्रव्यूह में घिरी आमजनता को सरकार बाहर निकालती हैं।