कुत्ते को लेकर लड़ाई, पीपल की कसम खाने के बाद हुआ फैसला

फतेहाबाद| किसी की कमस खा लेना आपके लिए कितना अहमियत रखता है। अगर कोई कसम खा ले तो क्या आप उसपर पूरी तरह भरोसा कर लेंगे ? और अगर मामला किसी फैसले तक पहुंचने का हो तो क्या किसी के कसम भर खा लेने से उसके पक्ष में फैसला सुना देंगे ?

 हरियाणा के फतेहाबाद में कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां एक कुत्ते को लेकर दो लोग लड़ बैठे। दोनों इस कुत्ते को अपना बता रहे थे और इसकी खातिर दोनों पुलिस में चले गए। अनिल कुमार नाम के व्यक्ति ने पुलिस में शिकायत की कि आठ महीने पहले उसका कुत्ता चोरी हो गया था और गली में घूम रहे जिस कुत्ते को प्रवीण नाम का शख्स उठाकर ले गया, वो उसका चोरी हुआ कुत्ता ही है। इस मामले में थाने में भी दोनों के बीच दो घंटे तक बहस होती रही लेकिन कोई किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाया। फैसला करने के लिए पुलिस ने कुत्ते को भी दोनों को पहचानने के लिए टेस्ट किया, लेकिन कुत्ता भी अपने असली मालिक की पहचान नहीं कर पाया। इस उलझे मामले में पुलिस को समझ नहीं आया कि वो क्या फैसला ले, इसलिए आखिरकार पुलिस ने तय किया कि इसका कोई और रास्ता निकाला जाए। इस इलाके में पीपल की कसम खाने को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है, इसलिए पुलिस दोनों को गांव में ले गई और पंचायत के बीच पीपल की कसम खाने वाले को कुत्ता सौंप दिया गया। दरअसल अनिल ने ही कहा कि अगर प्रवीण पीपल की कसम खाता है तो वो उस कुत्ते को उसे ले जाने देगा। जिसके बाद प्रवीण ने पंचायत के बीच में पीपल के पेड़ को छूकर कसम खा ली और इस तरह इस विवाद का निपटारा हुआ।