चुनाव से पहले इस विधायक ने थामा भाजपा का दामन, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मौजूदगी में ली सदस्यता

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। उत्तराखंड के भीमताल से निर्दलीय विधायक और पूर्व कांग्रेस नेता राम सिंह कैड़ा अब भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हो गए हैं।  उन्होंने आज शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर उत्तराखंड प्रभारी एवं राज्यसभा सदस्य दुष्यंत गौतम, उत्तराखंड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक भी मौजूद थे।

उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सभी पार्टियां अपनी जीत पक्की करने के लिए सभी प्रयास कर रहीं हैं। उधर राज्य के विधायकों और नेताओं में भी खलबली मच रही है वे अपना टिकट और जीत दोनों के लिए निश्चिन्त होना चाहते हैं।  इसलिए उत्तराखंड में इन दिनों दलबदल ने रफ़्तार पकड़ रखी हैं।

ये भी पढ़ें – Job Alert 2021: MP में इन पदों पर निकली है भर्ती, इतनी मिलेगी सैलरी, 22 अक्टूबर लास्ट डेट

एक महीने में तीसरे विधायक ने ज्वाइन की भाजपा 

इसी क्रम में आज शुक्रवार को निर्दलीय विधायक एवं पूर्व कांग्रेस नेता राम सिंह कैड़ा ने दिल्ली पहुंचकर भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। विधायक राम सिंह ने कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों से प्रभावित होकर  हैं। यहाँ बता दें कि पिछले एक महीने में भाजपा में शामिल होने वाले राम सिंह कैड़ा तीसरे विधायक हैं।

ये भी पढ़ें – World Wrestling: भारत की बेटी अंशु मलिक ने बढ़ाया मान, रजत पदक जीतकर रचा इतिहास

भाजपा कार्यकर्ताओं को परिवार की तरह जोड़े रखती है 

भाजपा ज्वाइन करने के बाद विधायक राम सिंह कैड़ा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एक ऐसी पार्टी है जो कार्यकर्ताओं को परिवार की तरह जोड़े रखती है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को वे राजनीति में अपना  आदर्श मानते हैं।  अब वे भाजपा के कार्यकर्ता हो गए हैं पार्टी जो आदेश देगी वे उसका पालन करेंगे।

ये भी पढ़ें – MP उपचुनाव से पहले BJP ने की किसान मोर्चा जिलाध्यक्षों की घोषणा, यहां देखें लिस्ट

कांग्रेस में कई पदों पर रह चुके हैं कैड़ा 

भाजपा का दामन थामने वाले निर्दलीय विधायक राम सिंह कैड़ा कांग्रेस में कई पदों पर रह चुके हैं।  वे प्रदेश महामंत्री, प्रदेश सचिव, प्रदेश संगठन मंत्री जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं।  कैड़ा ने भीमताल से ही कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा था लेकिन हार गए थे लेकिन 2017 में कांग्रेस का टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय चुनाव लड़ा और मोदी लहार में जीत हासिल कर इतिहास रचा।