भारतीय रेलवे का बड़ा फैसला, किराये पर लेकर चला सकते है ट्रेन

डेस्क रिपोर्ट। भारतीय रेलवे ने मंगलवार को बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत कोई भी राज्य सरकार या कंपनी ट्रेन को किराए पर ले सकती है। इसके लिए स्टेक होल्डर्स के साथ रेल मंत्रालय  की चर्चा हो चुकी है। रेलवे इस सेवा के लिए न्यूनतम चार्ज लगाएगा। इस योजना के तहत 3333 कोच यानी 190 ट्रेनों को रेलवे ने चिन्हित किया है। इन ट्रेनों का परिचालन पर्यटन स्थलों के लिए किया जाएगा। रेल मंत्री ने कहा कि भारत गौरव ट्रेन, रामायण ट्रेन से लोगों को भारतीय संस्कृति, हमारी विविधता एवं धरोहरों से परिचित होने का मौका मिलेगा। रेलवे आने वाले समय में गुरु कृपा और सफारी ट्रेन चलाने जा रही है।

DIG इंदौर को नोटिस, आयोग के नोटिस हल्के में लेना पड़ सकता है भारी

जानकारी के अनुसार, इन ट्रेनों के लिए आज से एप्लिकेशन प्रोसेस शुरू हो गया है। इसमें Ac, नॉनऐसी, सभी तरह की ट्रेनों को शामिल किया जाएगा। इसके अलावा रूट तय करने का अधिकार कंपनी को होगा। भारत गौरव ट्रेन का संचालन निजी क्षेत्र और आईआरसीटीसी दोनों द्वारा किया जा सकता है। टूर ऑपरेटर द्वारा इन ट्रेनों का किराया तय किया जाएगा।

स्वास्थ्य अव्यवस्थाओं में होगी कार्रवाई, मीडियाकर्मियों के ज्ञापन के बाद कलेक्टर ने दिया आश्वासन

अब केंद्र सरकार के इस फ़ैसलें के बाद कोई भी राज्य सरकार या कंपनी ट्रेन को किराए पर ले सकती है। इसके लिए स्टेक होल्डर्स के साथ रेल मंत्रालय  की चर्चा हो चुकी है। रेलवे इस सेवा के लिए न्यूनतम चार्ज लगाएगा। इस योजना के तहत 3333 कोच यानी 190 ट्रेनों को रेलवे ने चिन्हित किया है। रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने भारत गौरव ट्रेन चलाने की घोषणा की है। भारत गौरव ट्रेन भारत की संस्कृति, विरासत को प्रदर्शित करने वाली थीम पर आधारित होंगी। रेलवे के अनुसार लगभग 190 ट्रेनों को आवंटित किया गया है। रेलमंत्री ने कहा कि अच्छा रिस्पॉन्स मिलने इन ट्रेनों की संख्या बढ़ाई जा सकती है।