लाखों कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, वेतन-भत्तों में 25 फीसदी वृद्धि, एरियर का भी होगा भुगतान, खाते में बढ़कर आएगी सैलरी

2000 Rupee Note Exchange,

Coal India Employees salary Allowance Hike : कोल इंडिया के लाखों कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। कोल इंडिया ने गैर-कार्यकारी कर्मचारियों के साथ वेतन समझौता किया है और भत्तों में 25 फीसदी की बढ़ोतरी की है। यह वेतन समझौता 1 जुलाई 2021 से 30 जून 2026 तक के लिए होगा इस फैसले से सीआईएल और एससीसीएल के लगभग 2.81 लाख कर्मचारियों को लाभ मिलेगा और सैलरी में बंपर उछाल देखने को मिलेगा। वेतन बढ़ोतरी मद में 8152.75 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

2 लाख से ज्यादा कर्मचारियों को लाभ, भत्तों में 25% वृद्धि

सार्वजनिक क्षेत्र की कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) ने सोमवार को एक बयान जारी कर बताया कि 2.81 लाख गैर-कार्यकारी कर्मचारियों के साथ वेतन संशोधन समझौता किया है। इस समझौते के तहत एक जुलाई 2021 से परिलब्धियों (मूल, वैरिएबल महंगाई भत्ता, विशेष कार्य भत्ता और उपस्थिति बोनस) पर 19 प्रतिशत न्यूनतम गारंटी लाभ और भत्ते में 25 प्रतिशत की वृद्धि की गई है।कंपनी ने कहा कोयला उद्योग के लिए संयुक्त समिति (JBCCI)-11 ने 5 वर्षों के लिए राष्ट्रीय कोयला वेतन समझौता को मंजूरी दी। समिति में CIL प्रबंधन, सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (SCCL), पांच केंद्रीय मजदूर संगठनों (BMS, HMS, AITUC, सीटू और इंडियन नेशनल माइन वर्कर्स फेडरेशन (INMF) के प्रतिनिधि शामिल हैं।’’

एरियर और हॉलिडे का भी लाभ

दरअसल, कोलकाता स्थित कोल इंडिया मुख्यालय में JBCCI-11 की दो दिन चली बैठक के अंतिम दिन शनिवार को कोल इंडिया प्रबंधन और 5 सेंट्रल ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधियों ने समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए, जिसके तहत कैटेगरी-1 के कर्मचारियों के मूल वेतन में 12,776.22 रुपए वृद्धि और अंडरग्राउंड अलाउंस भी 9% से बढ़ाकर 11.25% कर दिया गया है। वहीं बकाया एरियर का भुगतान 3 महीने बाद होगा। वही पहली बार कर्मचारियों के लिए 5 दिन के पितृत्व अवकाश और पेड हॉलिडे 8 से बढ़ाकर 9 की गई है। अब 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती की छुट्‌टी रहेगी। कर्मचारी 120 दिन की जगह 150 दिन चिकित्सा छुट्‌टी जमा कर सकेंगे।

 


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News