दशहरे से पहले हजारों कर्मचारियों को सौगात, वेतन में 30 फीसदी की बढ़ोतरी, 1 अक्टूबर से लागू, खाते में आएगी 50 हजार तक राशि

salary news

Fix Pay Employees Salary Hike : गुजरात के सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। राज्य की भूपेश पटेल सरकार ने दशहरे से पहले फिक्स पे कर्मचारियों को बड़ी सौगात दी।राज्य सरकार ने फिक्स-पे कर्मियों के वेतन मे 30 फीसदी की बढ़ोतरी की गई, जिसके बाद कर्मचारियों की सैलरी में बड़ा उछाल देखने को मिलेगा। इससे राज्य के 61000 से ज्यादा कर्मचारी लाभान्वित होंगे।

61000 कर्मचारियों को मिलेगा लाभ

दरअसल, बुधवार को सीएम भूपेश पटेल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में राज्य के 61,560 फिक्स-पे कर्मचारियों के वेतन मे 30% तक बढ़ोतरी का फैसला किया गया है। राज्य सरकार का यह फैसला 1 अक्टूबर 2023 से प्रभावी होगा।इस फैसले से राज्य के 61,560 कर्मचारियों और उनके परिवारों को फायदा होगा।इससे कर्मचारियों के खाते में नवंबर में 50000 तक राशि आएगी।

लंबे समय से कर्मचारियों कर रहे थे वेतन बढ़ाने की मांग

बता दे कि लंबे समय से फिक्स पे कर्मचारी वेतन बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे, इसको लेकर उन्होंने राज्य सरकार को पत्र भी लिखे थे, जिस पर अब सहमति बन गई है।वर्तमान में कर्मचारियों 19 हज़ार रू. प्रति माह वेतन मिल रहा है और अब इसमें 30 प्रतिशत वृद्धि होगी तो सैलरी में बड़ा उछाल देखने को मिलेगा। इससे पहले राज्य सरकार ने संविदा कर्मचारियों के लिए बड़ा फैसला लिया था। राज्य सरकार ड्यूटी के दौरान मरने वाले संविदा कर्मचारी के आश्रितों को 14 लाख रुपये की वित्तीय सहायता देगी। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा एक परिपत्र जारी किया गया था।

30% वेतन वृद्धि के बाद किसकी कितनी बढ़ेगी सैलरी

  • राज्य सरकार द्वारा 30 प्रतिशत वेतन में वृद्धि करने के बाद तृतीय श्रेणी 4400 ग्रेड वेतन वाले कर्मचारियों का मौजूदा मासिक निर्धारित वेतन रु. 38,090 से रुपये 49,600 होगा।
  • 4200 और 2800 ग्रेड पे वाले तृतीय श्रेणी कर्मचारियों का मौजूदा मासिक निश्चित वेतन 31,340 से 40,800 रुपये होगा।
  • ग्रेड पे 2400, 2000, 1900 और 1800 में क्लास-III कर्मचारियों का मौजूदा मासिक निश्चित वेतन रुपये 19,950 से 26,000 होगा।
  • 1650, 1400 और 1300 ग्रेड पे वाले चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का मौजूदा मासिक निर्धारित वेतन रुपये 16,224 से 21,100 होगा।
  • इस फैसले से राज्य सरकार के खजाने पर सालाना 548.64 करोड़ रुपये का बोझ बढ़ेगा।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News