इन कर्मचारियों को मिला बड़ा तोहफा, जुलाई से मिलेगा सातवें वेतनमान का लाभ, वेतन में भी वृद्धि

अब जुलाई से नगर निगम के कर्मचारियों को 7वें वेतनमान का लाभ मिलेगा।

honorarium hike

मुजफ्फरपुर, डेस्क रिपोर्ट।7th Pay Commission: उत्तर प्रदेश की मुजफ्फरपुर नगर निगम के कर्मचारियों के लिए बड़ी है। हडताल की घोषणा के बाद मुजफ्फरपुर नगर निगम ने कर्मचारी संघ की मांग को मान लिया है और सातवें वेतनमान (7th Pay Scale) का लाभ देने का फैसला किया है। अब जुलाई से नगर निगम के कर्मचारियों को 7वें वेतनमान का लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़े.. CG Weather Update: आज से बदलेगा मौसम, गरज चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार, मानसून पर ताजा अपडेट

दरअसल, दो दिन पहले मुजफ्फरपुर नगर निगम कर्मचारी संघ ने सातवां वेतनमान भुगतान करने, दैनिक व संविदा मजदूरों के पारिश्रमिक में वृद्धि एवं बकाए अंतर वेतन राशि के भुगतान की मांग को लेकर सोमवार 6 जून से हड़ताल का ऐलान किया था। इसके लिए आज कर्मचारियों ने नगर निगम कर्मचारी संघ के बैनर तले कार्यालय में तालाबंदी की और फिर नगर आयुक्त के कार्यालय के कक्ष के बाहर धरना-प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। हंगामे और विरोध के बाद नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय और नगर निगम कर्मचारी संघ के प्रतिनिधिमंडल के बीच वार्ता हुई और सभी मांगो पर सहमति बन गई है, जिसके बाद कर्मचारियों ने हड़ताल खत्म कर दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैठक में नगर निगम के स्थायी कर्मचारियों को जुलाई माह से 7वां वेतनमान देने का फैसला किया गया है। वही दैनिक मजदूरों, अतिरिक्त और संविदा पर बहाल कर्मचारियों के दैनिक पारिश्रमिक में 40 रुपये की वृद्धि का भी ऐलान किया है। समझौते के अनुसार नगर विकास एवं आवास विभाग के निर्णय तथा सशक्त स्थायी समिति व बोर्ड के फैसले के आलोक में निगम के स्थायी कर्मचारियों को सप्तम वेतनमान सभी आवश्यक प्रक्रिया पूरी करने के बाद जुलाई माह से दिया जाएगा।

यह भी पढ़े… Shivraj Cabinet Meeting: शिवराज कैबिनेट बैठक आज, इन प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, समझौते में कहा गया है कि निगम में कार्यरत दैनिक पारिश्रमिक, अतिरिक्त एवं आउट सोर्सिंग कर्मी को प्रति कार्य दिवस दैनिक पारिश्रमिक के अतिरिक्त 40 रुपये प्रतिदिन कल्याण भत्ता के रूप में दिया जाएगा। वही विशेष अभियान चलाकर कर संग्रहण किया जाएगा ताकि चरणबद्ध तरीके से बकाए अंतर वेतन राशि का भुगतान किया जा सके।