आधार कार्ड यूजर्स के लिए बड़ी खबर, UIDAI ने शुरू किया नया सिक्योरिटी फीचर, बढ़ेगी सुरक्षा, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Aadhaar-Card

Aadhaar Card News: आधार कार्ड भारतीय नागरिकों के महत्वपूर्ण दस्तावेजों में से एक बन चुका है। इसक जरूरत बैंकिंग से लेकर पहचान के लिए भी पड़ती है। स्कूल और कॉलेज में भी यह बहुत अनिवार्य होता है। देखा जाए तो बिना आधार कार्ड के एक व्यक्ति की आधिकारिक पहचान भी अधूरी होती है। आजकल इससे जुड़े कई धोखाधड़ी के मामले सामने आ रहे हैं। कई स्कैमर्स इस जरूर डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल करने आधारकार्ड धारकों को चूना लगाते हैं। इन्हीं समस्याओं को देखते हुए युनीक इडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI ) ने सुरक्षा तंत्र में बड़ा बदलाव लिया है।

ऐसे करेगा काम

यूआईडीएआई ने आधार बेस्ड फिंगरप्रिन्ट ऑथेन्टीकेशन के लिए एक नया सुरक्षा तंत्र (Security Mechanism) शुरू किया है। जिसकी घोषणा सोमवार हो चुकी है। इसके तहत किसी स्पूफिंग का पता लगाने का प्रोसेस फास्ट हो जाएगा। यह तंत्र आर्टीफ़िशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग (AI/ML) पर आधारित है। जो कैप्चर किये गए फिंगरप्रिन्ट की जीवंतता को चेक करने के लिए फिंगर मिन्यूशिया और फिंगर इमेज दोनों के कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल करेगा।

UIDAI ने कहा

इस नए सिक्योरिटी फीचर के जरिए आधार पर आधारित वित्तीय लेन-देन को और भी औरक्षित बनाएगा। साथ ही मेलवेयर्स को नियंत्रित करने का काम भी करेगा। यूआईडीएआई के मुताबिक बैंकिंग, वित्तीय, टेलिकॉम और सरकारी सेक्टर्स में इस फीचर का इस्तेमाल तेजी से होगा। कई महीनों के विचार-विमर्श के बाद यह फैसला लिया गया है, जो अब पूर्ण रूप से लागू किया गया है। UIDAI ने कहा कि यह सुरक्षा तंत्र आधार ऑथेन्टीकेशन लेनदेन को और भी स्ट्रॉंग और सुरक्षित बना रहा है। आगे कहा, “नया 2 फेक्टर/लेयर ऑथेन्टीकेशन फिंगरप्रिन्ट की लाइवनेस को मान्य करने के लिए ऐड-ऑन चेक जोड़ रहा है, ताकि स्पूफिंग की कोशिशों की संभावनाओं को और भी कम किया जा सके।”


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News