कर्मचारियों के लिए काम की खबर, इनएक्टिव EPF खातों में 3930.85 करोड़ जमा, जानें कैसे मिलेगा पैसा?

36 महीने तक कोई ट्रांजैक्शन नहीं होने पर यह निष्क्रिय यानी इनएक्टिव हो जाता है। ईपीएफओ ऐसे खातों को बंद नहीं करता बल्कि निष्क्रिय खातों की कैटेगरी में डाल देता है।

epfo pf rate

नई दिल्ली,डेस्क रिपोर्ट।EPFO News. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफ) के कर्मचारियों के लिए काम की खबर है। 31 मार्च 2021 तक निष्क्रिय खातों (inactive epf accounts) में 3930.85 करोड़ रुपये हो गए है, जिसका कोई दावेदार नहीं है। इसमें सबसे ज्यादा महाराष्ट, दिल्ली, गुजरात, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश के कर्मचारियों के खाते शामिल है।  पीएफ अकाउंट को दोबारा एक्टिव कराने के लिए आपको कर्मचारी भविष्य निधि संगठन मे जाकर एप्लीकेशन देनी होती है।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को जल्द मिलेगा बड़ा तोहफा, महंगाई भत्ते में होगी 3% वृद्धि! सैलरी में आएगा बंपर उछाल

दरअसल, गुरूवार को संसद में श्रम एवं रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव (Labour and Employment Minister Bhupendra Yadav) ने सुशील कुमार मोदी के एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी देते हुए बताया कि 31 मार्च 2021 की स्थिति के अनुसार कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) में निष्क्रिय खातों (inactive epf accounts) में कुल 3930.85 करोड़ रुपये जमा हैं। कर्मचारी भविष्य निधि में बिना दावे वाली कोई जमाराशि नहीं है। लेकिन कर्मचारी भविष्य निधि योजना 1952 के अनुसार, कुछ खातों को निष्क्रिय खातों के रूप में वर्गीकृत किया गया है, ऐसे सभी निष्क्रिय खातों के निश्चित रूप से दावेदार हैं।

श्रम एवं रोजगार मंत्री ने बताया कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) से विभिन्न श्रेणियों में पंजीकृत प्रतिष्ठानों की कुल संख्या 18,62,128 है। एक अक्टूबर 2020 के बाद इन प्रतिष्ठानों द्वारा 1,44,82,359 नए कर्मचारियों की भर्ती की गई। पंजीकृत प्रतिष्ठानों की सबसे ज्यादा संख्या (2,97,684) महाराष्ट्र में है जबकि दिल्ली में 1,14,151, गुजरात में 1,37,686, तमिलनाडु में 1,67,390 तथा उत्तर प्रदेश में 1,47,790 प्रतिष्ठान ईपीएफओ से पंजीकृत हैं। 31 मार्च 2021 की स्थिति के अनुसार, ऐसे निष्क्रिय खातों में कुल जमा धनराशि 3930.85 करोड़ रुपये है।

यह भी पढ़े.. PM Kisan: अप्रैल में इस दिन जारी होगी 11वीं किस्त! 12 करोड़ को मिलेगा लाभ, ऐसे देखें ताजा स्टेटस 

बता दे कि ईपीएफओ विश्व में सबसे बड़ा सामाजिक सुरक्षा संगठन है ।इसके तहत नौकरीपेशा लोगों का ईपीएफओ (EPFO) में अकाउंट होता है, जहां उनके वेतन का कुछ हिस्सा हर महीने जमा किया जाता है और फिर उन्हें ब्याज समेत यह रकम वापस मिलती है, लेकिन 36 महीने तक कोई ट्रांजैक्शन नहीं होने पर यह निष्क्रिय यानी इनएक्टिव हो जाता है। ईपीएफओ ऐसे खातों को बंद नहीं करता बल्कि निष्क्रिय खातों की कैटेगरी में डाल देता है, ताकी भविष्य में किसी कर्मचारी को इसको एक्टिवेट करना हो तो आसानी हो।

खास बात ये है कि निष्क्रिय होने के बाद भी अकाउंट में पड़े पैसों पर ब्याज मिलता रहता है, सीधे शब्दों में कहें को आपका पैसा कहीं जाता नहीं और ना ही डूबता है, ये आपको वापस मिल जाता है।  पीएफ अकाउंट को दोबारा एक्टिव कराने के लिए आपको कर्मचारी भविष्य निधि संगठन मे जाकर एप्लीकेशन देनी होती है। वर्तमान में यह अपने सदस्यों से संबंधित 24.77 करोड़ खातों (वार्षिक रिपोर्ट 2021-20) का रख रखाव कर रहा है।