85 हजार पेंशनरों के लिए बडी खबर, 30 जुलाई से पहले अपडेट करें ये डिटेल्स, वरना अटक सकती है पेंशन

30 जुलाई तक सभी को जागरूक कर प्रमाणीकरण कराने का प्रयास किया जाएगा।पेंशनर वेबसाइट https://sspy-up.gov.in पर आधार प्रमाणीकरण किया जा सकता है।

PENSIONERS pension

गोरखपुर, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश के 85 हजार पेंशनरों (बुजुर्गों-विधवाओं) के लिए बड़ी खबर है।जिन पेंशनरों ने अभी तक आधार प्रमाणीकरण नहीं कराया है यानी केवाइसी (नो योर कस्टमर) से जुड़ी प्रक्रिया पूरी नहीं की गई है, उनके खाते में 3 महीने की पेंशन की राशि नहीं भेजी जाएगी। चुंकी यूपी शासन ने राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत पेंशनरों के लिए बैंक खाता को आधार से लिंक करवाना अनिवार्य कर दिया है, ऐसे में 30 जुलाई से पहले खाते को अपडेट करा लें वरना पेंशन का अटकना या रुकना तय है।

यह भी पढे.. MP Weather: 4 वेदर सिस्टम एक्टिव, 33 जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी, बिजली गिरने की भी चेतावनी

दरअसल, वर्तमान में जिले में कुल 1 लाख 48 हजार 508 पेंशनरों को पेंशन मिल रही है। इनमें से सिर्फ 63 हजार 23 ने ही अपना आधार लिंक कराकर केवाईसी कराई है, जबकी 85 हजार 485 पेंशनरों की केवाईसी होना बाकी है, ऐसे में इनकी पेंशन इस बार नहीं भेजी जाएगी। केवाईसी होने के बाद ही एक साथ पेंशन जारी की जाएगी।हालांकि ग्राम पंचायत सचिवालय, विकासखंड और तहसील स्तर पर 11 जुलाई से कैंप लगाकर वृद्ध पेंशनधारकों के आधार का वैरिफिकेशन कराया जाएगा। यह अभियान 30 जुलाई तक चलाकर शत-प्रतिशत पेंशन धारकों का आधार लिंक कराया जाएगा।वृद्धावस्था पेंशन के लाभार्थियों को अब अप्रैल 2022 से आधार बेस्ड भुगतान किया जाना है।

यह भी पढ़े.. CG Weather: चक्रवाती घेरा सक्रिय, 2 दर्जन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, बिजली गिरने की भी चेतावनी

जानकारी के मुताबिक, अभी तक केवल 42.56 प्रतिशत लाभार्थियों ने ही यह प्रक्रिया पूरी की है और इस शनिवार तक इनके खाते में 3-3 हजार रुपये भेज दिए जाएंगे। प्रक्रिया पूरी न करने वाले 57.44 प्रतिशत लाभार्थियों के खाते में धनराशि नहीं भेजी जाएगी। समाज कल्याण विभाग ने सभी लाभार्थियों का आधार प्रमाणीकरण कराने के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर शिविर लगाने की तैयारी भी की है। 30 जुलाई तक सभी को जागरूक कर प्रमाणीकरण कराने का प्रयास किया जाएगा।पेंशनर वेबसाइट https://sspy-up.gov.in पर आधार प्रमाणीकरण किया जा सकता है। इसके लिए जन सुविधा केंद्रों, साइबर कैफे, निजी इंटरनेट या स्वयं के मोबाइल से यह प्रक्रिया पूरी की जा सकती है।