मिशन 2023 की तैयारी तेज, BJP ने इस सांसद को सौंपी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी

संघ की पृष्ठभूमि से आने अरुण साव पिछले लोकसभा चुनाव में पहली बार बिलासपुर से चुनाव जीते हैं। उनकी गिनती शांत और सौम्य स्वभाव वाले नेताओं में होती है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्यों में होने वाले चुनावों को लेकर BJP एक्शन मोड में है। भाजपा के अपने संगठनात्मक ढांचे में परिवर्तन शुरू कर दिया है। आज इसकी एक बानगी देखने को मिली जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP President JP Nadda)  ने बिलासपुर सांसद अरुण साव को छत्तीसगढ़ का प्रदेश अध्यक्ष (BJP Chhattisgarh State President Arun Sao) नियुक्त कर दिया।

संघ की पृष्ठभूमि से आने अरुण साव पिछले लोकसभा चुनाव में पहली बार बिलासपुर से चुनाव जीते हैं। उनकी गिनती शांत और सौम्य स्वभाव वाले नेताओं में होती है। सांसद अरुण साव ओबीसी वर्ग से आते हैं। उनकी नियुक्ति से साफ दिखाई देता है कि भाजपा ओबीसी वर्ग के वोटर को साधने की प्लानिंग पर काम कर रही है।

ये भी पढ़ें – अंडमान निकोबार के द्वीप समूह देखने का सुनहरा मौका, IRCTC के इस स्पेशल प्लान पर एक नजर जरूर डाल लीजिये

आपको बता दें कि अभी तक छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष (BJP Chhattisgarh) की जिम्मेदारी विष्णुदेव साय संभल रहे थे जो आदिवासी वर्ग से आते हैं। चर्चा है कि केंद्रीय नेतृत्व ने एक रिपोर्ट के आधार पर ये फेरबदल किया है। पिछले दिनों पार्टी ने 2023 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए क्षेत्रीय संगठन मंत्री के रूप में अजय जामवाल की नियुक्ति की थी।

ये भी पढ़ें – CG Weather: मानसून की सक्रियता बढ़ी, 20 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग का रेड अलर्ट जारी

नियुक्ति के बाद अजय जामवाल ने तीन दिन में ही प्रदेश पदाधिकारियों, कोर ग्रुप और विधायकों के साथ बैठक की जिसमें परिवर्तन की मांग उठी।  अजय जामवाल ने अपनी रिपोर्ट केंद्रीय नेतृत्व को सौंपी और उसके तुरंत बाद आज छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर विष्णुदेव साय की जगह अरुण साव को बैठा दिया है।