Big Breaking: BJP विधायक का हार्ट अटैक से निधन, पार्टी में शोक लहर, CM ने जताया दुख

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट
कोरोना संकटकाल (Corona Era) में एक के बाद एक नेताओं के निधन की खबरें सामने आ रही है।अब यूपी से बड़ी खबर मिल रही है।यहा देवरिया सदर से बीजेपी विधायक जन्मेजय सिंह (BJP MLA Janmejaya Singh) का निधन हो गया है।विधायक के निधन के बाद बीजेपी (BJP) मे शोक की लहर दौड़ गई है।जन्मेजय के निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditiyanath) से लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव तक ने शोक संवेदना जताया है। बता दे कि एक महिने में ये बीजेपी को तीसरा झटका है, इसके पहले दो कैबिनेट मंत्रियों का निधन हो गया था।एक बार फिर यूपी में उपचुनाव (Byelection) की स्थिति बन गई है।

मिली जानकारी के अनुसार, देवरिया जिले की सदर सीट के भाजपा के विधायक जन्मेजय सिंह का गुरुवार देर रात लखनऊ में हार्ट अटैक से निधन हो गया। वह 75 वर्ष के थे।बताया जा रहा है कि वे बहुत दिनों से बीमार चल रहे थे और बीती रात अचानक उनकी तबीयत खराब होने पर पहले सिविल अस्पताल ले जाया गया और फिर सुधार ना होने पर लोहिया संस्थान रेफर किया गया था, यहां मेडिसिन के डॉक्टरों ने देखकर कार्डियोलॉजी विभाग रेफर किया, इसी दौरान उनकी हार्ट अटैक से मौत हो गई।

इससे पहले सिविल अस्पताल में उनकी कोरोना वायरस संक्रमण की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी।जन्मेजय सिंह विधानसभा के मॉनसून सत्र में शामिल होने देवरिया से लखनऊ आए थे। वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सदन की पहले दिन की कार्यवाही में शामिल थे। करीब चार महीने पहले भी जन्मेजय सिंह को माइनर अटैक पड़ा था।

सीएम ने जताया शोक
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी विधायक के निधन पर दुख जताया है। सीएम ने ट्वीय कर कहा कि देवरिया सदर विधान सभा क्षेत्र के विधायक जन्मेजय सिंह के आकस्मिक निधन की खबर सुनकर शोक हुआ। सिंह के निधन से पार्टी ने एक समर्पित कार्यकर्ता और जनता ने अपना सच्चा हितैषी खो दिया है. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को अपने श्री चरणों मे स्थान दें।ॐ शांति…

राजनैतिक करियर
-जन्मेजय सिंह का जन्म 7 जुलाई, 1945 को देवरिया में त्रिलोकीनाथ सिंह के घर हुआ था।
-जन्मेजय सिंह बीजेपी से लगातार दो बार से देवरिया सदर विधानसभा सीट विधायक थे।
-2012 में बसपा प्रत्याशी प्रमोद सिंह को हराकर विधायक बने थेइ।
-2017 में उन्होंने सपा के उम्मीदवार जेपी जायसवाल को बड़े अंतर से मात देकर अपनी राजनीतिक ताकत का एहसान कराया था।
-जन्मेजय सिंह 2000 में हुए उपचुनाव में पहली बार बसपा के टिकट पर विधायक बने।
-2002 में हुए आम चुनाव में सपा के शाकिर अली से हार गए थे।
-2007 में वह बीजेपी में शामिल हो गए.।
-उत्तर प्रदेश की 16वीं और 17वीं विधान सभा के सदस्य रहे।
– उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में देवरिया निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया।