Cabinet Meeting : 25 जुलाई को सीएम ने बुलाई अहम कैबिनेट बैठक, इन मुद्दों पर होगी चर्चा, हो सकते है बड़े फैसले

Pooja Khodani
Published on -
hp cabinet

Himachal Pradesh Cabinet Meeting : 25 जुलाई को सीएम सुखविंद्र सिंह सुक्खू की अध्यक्षता में अहम कैबिनेट बैठक बुलाई गई है, इस बैठक में बाढ़ और भारी बारिश से हुए नुकसान पर कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैठक में आपदा को लेकर मंथन होगा तथा राहत एवं पुनर्वास कार्यों की समीक्षा की जाएगी। नुकसान की रिपोर्ट भी बैठक में चर्चा में लाई जाएगी। इसके बाद भारत सरकार से आर्थिक मदद मांगने का प्रस्ताव भी पारित किया जाएगा। इसके अलावा इसमें हिमाचल विधानसभा के मानसून सत्र, आपदा, MIS के रेट, हेलिकॉप्टर, नदियों के किनारे निर्माण पर रोक जैसे फैसले लिए जा सकते हैं।

इन मुद्दों पर होगी सकती है चर्चा

  1. बैठक में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में मुख्यमंत्री की बजट घोषणाओं से संबंधित निर्णय हो सकते हैं। वही हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र पर भी मंत्रिमंडल में मुहर लग सकती है।
  2. मानसून सत्र को अगस्त माह में बुलाए जाने की संभावना है, जिसमें बरसात के कारण आई आपदा पर हंगामा होने के पूरे आसार है। कैबिनेट में इसकी तारीख तय की जा सकती है, ताकि विधानसभा सचिवालय प्रशासन इसकी तैयारी शुरू कर सके।
  3. बैठक में सरकार हेलीकॉप्टर लीज पर लेने पर भी निर्णय ले सकती है।  वर्तमान सरकार की तरफ से नए हेलीकॉप्टर को लीज पर लेने के लिए चौथी बार निविदा प्रक्रिया को पूरा किया गया है, जिस पर अब मंत्रिमंडल को निर्णय लेना है। इसमें 5 सीटर हेलीकॉप्टर के लिए एयर चार्टर और ओएसएस कंपनी ने भाग दिया, जबकि बड़े हेलीकॉप्टर के लिए हेलीगो कंपनी ने भाग लिया।
  4. मंत्रिमंडल में अवैध खनन व नदी किनारे निर्माण कार्य से जुड़े मुद्दे पर चर्चा हो सकती है। सरकार आने वाले समय में इसको लेकर कोई नए दिशा-निर्देश तैयार कर सकती है।  कैबिनेट में अवैध खनन के मुद्दे और नदियों के किनारे 100 मीटर के दायरे में निर्माण पर रोक लगाने को लेकर भी चर्चा हो सकती है। सरकार इसे लेकर पॉलिसी तैयार करने का निर्णय ले सकती है।
  5. प्रदेश में सेब सीजन शुरू हो गया है, ऐसे में कैबिनेट मीटिंग में MIS यानी मार्केट इंटरवेंशन स्कीम के तहत सेब की खरीद का मूल्य तय हो सकता है। बीते साल MIS के तहत सेब 10.50 रुपए खरीदा गया था। इस साल भी इसमें एक से डेढ़ रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी हो सकती है।

 


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News