Carnivorous : उत्तराखंड की वादियों में मिला दुर्लभ प्रजाति का मांसाहारी पौधा

पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में यूट्रिकुलरिया फुरसेलटा नामक एक बहुत ही दुर्लभ मांसाहारी (Carnivorous) पौधे की प्रजाति पाई गई है।

देश, डेस्क रिपोर्ट। पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में यूट्रिकुलरिया फुरसेलटा नामक एक बहुत ही दुर्लभ मांसाहारी (Carnivorous) पौधे की प्रजाति पाई गई है। मुख्य वन संरक्षक (अनुसंधान) संजीव चतुर्वेदी ने कहा कि ‘ उत्तराखंड वन विभाग के एक शोध दल ने चमोली जिले में स्थित सुरम्य मंडल घाटी में दुर्लभ प्रजातियों का पता लगाया था। उन्होंने बताया, कि “यह न केवल उत्तराखंड में बल्कि पूरे पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में पहली बार देखा गया है।”

यह भी पढ़ें – आख़िर मिल ही गई संजीवनी बूटी, मंदसौर के अभ्यारण्य में वनस्पति विशेषज्ञों ने खोजी

रेंज ऑफिसर हरीश नेगी और जूनियर रिसर्च फेलो मनोज सिंह की उत्तराखंड वन विभाग की टीम द्वारा खोज को प्रतिष्ठित ‘जर्नल ऑफ जापानी बॉटनी’ में प्रकाशित किया गया है, जो कि प्लांट टैक्सोनॉमी और वनस्पति विज्ञान पर 106 साल पुरानी पत्रिका है, जिसे माना जाता है, कि यह अपने क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ में से एक है, चतुर्वेदी ने कहा। उनके अनुसार, “यह जाल के लिए सबसे परिष्कृत और विकसित पौधों की संरचनाओं में से एक का उपयोग करता है। प्रोटोजोआ से लेकर कीड़े, मच्छर लार्वा और यहां तक ​​​​कि युवा टैडपोल तक इसका शिकार होते हैं”|

यह भी पढ़ें – सतपुड़ा में है औषधीय वनस्पतियों का भंडार, सही उपयोग से हो सकता है बेहद लाभ

इसका संचालन ट्रैप दरवाजे के अंदर शिकार को आकर्षित करने के लिए वैक्यूम या नेगेटिव दबाव क्षेत्र बनाकर एक यांत्रिक प्रक्रिया पर कार्य करता है। मांसाहारी पौधे ज्यादातर ताजे पानी और गीली मिट्टी में पाए जाते हैं। उनके पास सामान्य पौधों के प्रकाश संश्लेषण  की तुलना में परिष्कृत जाल तंत्र के माध्यम से भोजन और पोषण की व्यवस्था करने का एक पूरी तरह से अलग तरीका है। अधिकारी ने कहा कि मांसाहारी पौधे जो आमतौर पर खराब पोषक मिट्टी पर उगते हैं, उनके संभावित औषधीय लाभों के कारण दुनिया भर के वैज्ञानिक समुदाय में नई रुचि पैदा हुई है।