CBSE EXAM : 75% से कम हुई अटेंडेंस, तो 10वीं और 12वीं की परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे

नई दिल्ली| केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा आयोजित की जाने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षा में बैठने के लिए छात्रों की उपस्थिति 75 प्रतिशत होना अनिवार्य कर दी गई है। CBSE ने इस संबंध में सभी स्कूलों को नोटिस जारी कर दिया है और उन छात्रों की अटेंडेस की गिनती करने को कहा है जो इस साल कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए हिस्सा लेंगे। सीबीएसई के नए फरमान से स्कूलों और छात्रों में हड़कंप मच गया है| 

सीबीएसई की परीक्षा 15 फरवरी से शुरू होने वाली है और एडमिट कार्ड सिर्फ उन छात्रों को दिया जाएगा जो उपस्थिति समेत अन्य अनिवार्य पैमानों पर सही होंगे। जिन छात्रों की उपस्थिति 75 प्रतिशत से कम होगी, उन्हें CBSE के नियम के अनुसार परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं होगी। कम उपस्थिति वाले छात्रों को उनके क्षेत्रीय कार्यालय में जाना होगा और उन पर निर्णय 7 फरवरी या उससे पहले लिया जाएगा। किसी छात्र की उपस्थिति की कमी के पीछे यदि कोई उचित कारण है, तो उन्हें 7 जनवरी तक अधिकारियों के पास जरूरी दस्तावेज जमा कराने होंगे।

कम उपस्थिति वाले छात्रों की सूची क्षेत्रीय कार्यालयों तक भेजी जाएगी और आखिरी फैसला 7 जनवरी को या उससे पहले लिया जाएगा। यदि किसी उम्मीदवार के पास उपस्थिति की कमी के पीछे एक वास्तविक कारण है, तो उसे 7 जनवरी तक अधिकारियों के साथ सहायक दस्तावेज जमा करने होंगे। सर्कुलर के अनुसार, ऐसे किसी केस पर 7 जनवरी के बाद विचार नहीं किया जाएगा। वहीं परीक्षा पास करने के लिए, उम्मीदवारों को थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों परीक्षाओं को अलग-अलग क्लियर करना होगा. सीबीएसई के लिए, उम्मीदवारों को पास होने के लिए 33 प्रतिशत अंक लाने होंगे|