Char Dham Yatra 2024: फर्जी रजिस्ट्रेशन गिरोह सक्रिय, 2 टूर ऑपरेटर पर FIR, भारी भीड़ को देखते हुए ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन 19 मई तक बंद

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने हरिद्वार और ऋषिकेश में खोले ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन काउंटर आज यानि 17 मई से 19 मई तक बंद कर दिए हैं, जिससे आगे निकले यात्री दर्शन कर लौट सकें और धामों पर भीड़ नियंत्रित हो सके, यानिअभी जो  यात्री इस उम्मीद से जा रहा हैं कि हरिद्वार और ऋषिकेश में रजिस्ट्रेशन करा लेंगे तो उन्हें अभी इन्तजार करना होगा। 

Char Dham Yatra

Char Dham Yatra 2024: चार धाम यात्रा के पहले ही सप्ताह में यात्रियों को दो गुनी भीड़ ने उत्तराखंड शासन के हाथ पैर फुला दिए हैं मप्र के तीन यात्रियों सहित पांच श्रद्धालुओं की मौत की बाद  धामी सरकार ने कुछ कड़े प्रतिबंध घोषित किये हैं जिनका पालन करना सभी के लिए जरूरी है, सरकार ने हरिद्वार, ऋषिकेश में खोले गए ऑफलाइन काउंटर भी 19 मई तक बंद कर दिए हैं उधर अब फर्जी रजिस्ट्रेशन गिरोह भी यात्रा में सक्रिय हो गया है, फर्जीवाड़ा करने वाले दो लोगों के खिलाफ पुलिस ने FIR दर्ज की है।

चार धाम पर भारी भीड़, घंटों के इन्तजार के बाद भी रेंग रहे वाहन 

उत्तराखंड में बसे बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री यानि चार धाम यात्रा में उमड़ रही श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित करना हरिद्वार, ऋषिकेश, उत्तरकाशी सभी जिलों के प्रशासन के लिए मुश्किल हो रहा है, वाहनों की लम्बी लम्बी लाइनें घंटों के इन्तजार के बाद भी रेंग रहीं हैं, जिसे जहाँ जगह मिल रही है रात बिता रहा हैं, भोजन कर रहा है, हालाँकि सरकार और सामाजिक संस्थाएं हालात को नियंत्रित करने की कोशिश कर हैं और लोगों से अपील कर रही हैं कि यदि थोडा टाल सकते हों तो यात्रा को टाल दें।

31 मई तक VIP दर्शन बंद, 200 मीटर परिधि में मोबाइल प्रतिबंधित 

यात्रा में पहले ही सप्ताह में पहुंची रिकोर्ड तोड़ भीड़ ने सरकार के अनुमान को ध्वस्त कर दिया और व्यवस्थाओं की पोल खोल दी, अब तक पांच यात्रियों की मौत हो गई है जिसमें मप्र के तीन यात्री भी शामिल है, अब उतराखंड सरकार ने सख्त फैसले लेते हुए 31 मई तक VIP दर्शनों पर रोक लगा दी है, 200 मीटर की परिधि में मोबाइल प्रतिबंधित कर दिया है, अब इस परिधि में श्रद्धालु फोटो ग्राफी और वीडियो ग्राफी नहीं कर सकता, मोबाइल से रील बनाना पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है।

10 मई तक हरिद्वार, ऋषिकेश के ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन काउंटर बंद 

उधर उत्तराखंड सरकार ने सभी प्रदेशों की सरकारों को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वे अपने यहाँ के श्रद्धालुओं से भी अपील करें कि बिना रजिस्ट्रेशन के लिए कोई भी चार धाम की यात्रा के लिए ना निकले, भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने हरिद्वार और ऋषिकेश में खोले ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन काउंटर आज यानि 17 मई से 19 मई तक बंद कर दिए हैं, जिससे आगे निकले यात्री दर्शन कर लौट सकें और धामों पर भीड़ नियंत्रित हो सके, यानि अभी जो  यात्री इस उम्मीद से जा रहा हैं कि हरिद्वार और ऋषिकेश में रजिस्ट्रेशन करा लेंगे तो उन्हें अभी इन्तजार करना होगा।

फर्जी रजिस्ट्रेशन गिरोह सक्रिय

इस बीच फर्जी रजिस्ट्रेशन गिरोह भी सक्रिय हो गया है, पुलिस बसों की चैंकिंग कर रही है इसी बीच गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलिस ने यात्रियों से भारी दो बसों को चैंकिंग के लिए रोका बसों में 88 यात्री थे, पुलिस ने जब उनका रजिस्ट्रेशन देखा तो उनकी तारीख फर्जी पाई गई, पुलिस ने उन्हें आगे जाने से रोक दिया।

दो टूर ऑपरेटर पर FIR  

यात्रियों ने पुलिस को बताया कि हरिद्वार में उन्होंने टिंकू और माटू नामक टूर ऑपरेटर से रजिस्ट्रेशन कराया है उन्होंने ही तारीख दी है, पुलिस ने उन्हें कहा कि टूर ऑपरेटर ने धोखा किया है, सरकारी दस्तावेजों का गलत तरीके से इस्तेमाल कर फर्जीवाड़ा किया है, उत्तरकाशी पुलिस ने यात्रियों की शिकायत पर दोनों टूर ऑपरेटरों के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है।

सरकार की अपील, बिना रजिस्ट्रेशन यात्रा के लिए ना निकलें 

उत्तराखंड प्रशासन और पुलिस ने श्रद्धालुओं से अपील की है कि बिना रजिस्ट्रेशन चार धाम यात्रा पर बिलकुल ना निकलें इतना ही नहीं अधिकृत व्यक्ति से ही रजिस्ट्रेशन कराएँ वर्ना फर्जीवाड़ा हो सकता है, एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ भी अपील करती है कि यदि परेशानियों से बचना है तो चार धाम यात्रा नियमों का पालन करते हुए करें और जाँच परख कर सही और अधिकृत व्यक्ति से ही रजिस्ट्रेशन कराएँ।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News