किसानों को CM का बड़ा तोहफा, गन्ने की कीमतों में वृद्धि, जानें नया रेट, बकाया का भी होगा भुगतान

अब किसानों को गन्ने के एसएपी के तहत पिछले साल की तुलना में 20 रुपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त मिलेगा। इस निर्णय से राज्य सरकार किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सालाना 200 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करेगी।

farmers Kisan

चंडीगढ़, डेस्क रिपोर्ट। पंजाब की भगवंत मान सरकार ने राज्य के गन्ना किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। सीएम भगवंत मान ने गन्ना के कीमतों को बढ़ाने का ऐलान किया है, साथ ही किसानों का सहकारी मिलों का बकाया भी जारी कर दिया गया है, वही निजी मिलों का भी भुगतान जल्द किया जाएगा।

यह भी पढ़े..हजारों पेंशनरों की बड़ी तैयारी, सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, पेंशन की मांग, CM को लिखा पत्र, मिलेगा लाभ!

राज्य विधानसभा के संक्षिप्त सत्र के समापन के दिन सीएम भगवंत मान ने गन्ने की कीमतों में इजाफे का ऐलान किया। उन्होंने इसे 360 रुपये से बढ़ाकर 380 रुपये प्रति क्विंटल किया है। मान ने कहा कि किसानों को गन्ने के एसएपी के तहत पिछले साल की तुलना में 20 रुपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त मिलेगा।किसानों का सहकारी मिलों का बकाया भी जारी कर दिया गया है, जल्द निजी मिलों का बकाया भी जारी हो जाएगा।

भगवंत मान ने कहा कि इस समय पंजाब में 1.25 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल पर गन्ने की खेती होती है, जबकि राज्य की चीनी मिलों की कुल क्षमता 2.50 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल के गन्ने की पिराई करने की है। गन्ना किसानों की आय में विस्तार करने के लिए मैं गन्ने का भाव बढ़ाने का ऐलान करता हूं।  सहकारी चीनी मिलों ने किसानों का पूरा बकाया अदा कर दिया गया है, एक-दो प्राईवेट चीनी मिलों ने अभी तक किसानों का भुगतान नहीं किया है। इन मिलों के मालिक किसानों विदेश भाग गए हैं, ऐसे में सरकार ने इन मिलों की संपत्ति जब्त करके बकाये का भुगतान करने काम शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों को फिर मिलेगा एक और तोहफा! DA के बाद बढ़ेगा एक और भत्ता, सैलरी में आएगा बंपर उछाल

बता दे कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने अगस्त, 2021 में गन्ने के एसएपी में 50 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की थी, इसके बाद गन्ने की कीमत 360 रुपये प्रति क्विंटल हो गई थी। अब किसानों को गन्ने के एसएपी के तहत पिछले साल की तुलना में 20 रुपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त मिलेगा। इस निर्णय से राज्य सरकार किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सालाना 200 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करेगी।