नई दिल्ली।

अयोध्या और सीजेआई पर फैसला सुनाने के बाद आज सुप्रीम कोर्ट सबरीमाला मंदिर, राफेल और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल पर अपना फैसला सुनाएगी। जहां सबरीमाला स्थित अयप्पा मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने के फैसले के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका पर फरवरी में फैसला सुरक्षित रखा था। वही कोर्ट ने राफेल सौदे की जांच कराने की मांग वाली पुनर्विचार याचिकाओं पर मई में ही सुनवाई पूरी कर भी फैसला सुरक्षित रख लिया था। इसके बाद 17  नवंबर को सीजेआई रंजन गोगोई रिटायर हो जाएंगें।

सबरीमाला के अयप्पा मंदिर में 17 तारीख से यात्रा शुरू हो रही है और उससे पहले सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले को काफी अहम माना जा रहा है।  पिछले साल सितंबर में इस फैसले के खिलाफ याचिकाएं दायर हुई थीं जिस पर सर्वोच्च न्यायालय ने इस साल फरवरी में सुनवाई पूरी कर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। वही भगवान अयप्पा के मंदिर में इसी रविवार से शुरू होने वाले दो माह के त्योहार की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। इसके चलते केरल पुलिस ने मंदिर परिसर समेत पूरे शहर में सुरक्षा चाक-चौबंद कर दी है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ 28 सितंबर, 2018 के फैसले के पश्चात हुए हिंसक विरोध के बाद 56 पुनर्विचार याचिकाओं सहित कुल 65 याचिकाओं पर फैसला सुनाएगी। संविधान पीठ ने इन याचिकाओं पर इस साल छह फरवरी को सुनवाई पूरी की थी और कहा था कि इन पर फैसला बाद में सुनाया जाएगा।

राफेल सौदे को क्लीन चिट दी थी

शीर्ष अदालत मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी तथा वकील प्रशांत भूषण समेत कुछ अन्य की याचिकाओं पर फैसला सुनाएगी, जिनमें पिछले साल के 14 दिसंबर के उस फैसले पर पुनर्विचार की मांग की गई है जिसमें फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट से 36 लड़ाकू विमान खरीदने के केंद्र के राफेल सौदे को क्लीन चिट दी गई थी। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस. के. कौल और न्यायमूर्ति के. एम. जोसफ की पीठ राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस मामले में फैसला सुनाएगी। गौरतलब है कि 14 दिसंबर 2018 को शीर्ष अदालत ने 58,000 करोड़ के इस समझौते में कथित अनियमितताओं के खिलाफ जांच का मांग कर रही याचिकाओं को खारिज कर दिया था।

राहुल की टिप्पणी पर भी फैसला आज

सुप्रीम कोर्ट राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में चौकीदार चोर है टिप्पणी के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ लंबित अवमानना मामले में बृहस्पतिवार को फैसला सुनाएगा।