बीजेपी के ‘संकल्प पत्र’ से ‘AAP’ का फार्मूला फेल, अब क्या करेंगे केजरीवाल

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव में महज चंद दिन बचे हुए हैं ऐसे में दिल्ली में सियासी पारा सातवे आसमान पर है बीजेपी किसी भी हालत में दिल्ली को अपने हाथ से नहीं निकलने देना चाह रही और इसीविए बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में अन्य दलों से बढ़त ले ली है। अब वह घोषणापत्र में किए वादों पर और आक्रामक तरीके से आगे बढ़ सकती है। प्रचार में इसमें किए गए वादों का जोर-शोर से जिक्र होगा। इस बीच बीजेपी को उसके वादों पर घेरते हुए आप-कांग्रेस ने कई सवाल दागे हैं।

BJP का संकल्प पत्र
बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में गरीबों को दो रुपये किलो आटा देने जैसा लोक लुभावन वादा किया है। छत्तीसगढ़ में इसी तरह का वादा पूर्व सीएम रमन सिंह ने किया था और उन्होंने खूब लोकप्रियता हासिल की थी। उन्हें चावल वाले बाबा कहकर पुकारा जाने लगा था। इसके अलावा बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में छात्राओं को साइकिल-स्कूटी, गरीब विधवा बेटी की शादी में 51 हजार रुपये के उपहार, स्वच्छ जल, 10 लाख लोगों को रोजगार देने जैसे कई वादे किए हैं। आप सरकार की तरफ से बिजली-पानी पर दी जा रही सब्सिडी जारी रखने का भी उसने वादा किया है।
AAP ने बताया बर्बादी पत्र

बीजेपी के चुनावी संकल्प पत्र को आम आदमी पार्टी ने बर्बादी पत्र करार दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्लीवालों को चेतावनी दी कि बीजेपी को वोट देने पर दिल्ली सरकार की मुफ्त योजनाएं बंद कर दी जाएंगी। संकल्प पत्र जारी होने के बाद अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि बीजेपी के संकल्प पत्र से साबित हो गया है कि अगर दिल्लीवालों ने भाजपा को वोट दिया तो उनको मिलने वाली मुफ्त बिजली, पानी और महिलाओं को बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधाएं मिलनी बंद हो जाएगी। साथ ही नसीहत भी दी कि इस बार वोट सोचकर ही देना।