ED ने क्यों की एमवे इंडिया की संपत्ति कुर्क, जानें वजह

एमवे डायरेक्ट सेलिंग मल्टी-लेवल मार्केटिंग नेटवर्क के जरिए पिरामिड फ्रॉड (Pyramid Fraud) चला रहा है।

नई दिल्ली,डेस्क रिपोर्ट। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने डायरेक्ट सेलिंग कंज्यूमर गुड्स कंपनी एमवे इंडिया एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड (Amway India) की 757.77 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। ईडी ने यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग रोधी कानून के तहत की है, जिसकी जांच में खुलासा किया कि एमवे डायरेक्ट सेलिंग मल्टी-लेवल मार्केटिंग नेटवर्क के जरिए पिरामिड फ्रॉड (Pyramid Fraud) चला रहा है।

यह भी पढ़े…भोपाल के बैरागढ़ में रेल्वे फाटक गिरा, लोग घायल

आपको बता दें कि ईडी ने कार्रवाई एमवे इंडिया एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड की अस्थायी रूप से संलग्न संपत्तियों में तमिलनाडु के डिंडीगुल जिले में भूमि और कारखाना भवन, संयंत्र और मशीनरी, वाहन, बैंक खाते और सावधि जमा शामिल हैं। ईडी ने बताया कि एमवे की 411.83 करोड़ रुपये की चल-अचल संपत्ति और के 36 अलग-अलग खातों में जमा 345.94 करोड़ रुपये का बैंक बैलेंस अटैच किया गया है।

यह भी पढ़े…अप्रैल में इस दिन पड़ रही है वरुथीनी एकादशी, जाने शुभ मुहूर्त और तिथि

ईडी ने कहा कि कंपनी एक बहु-स्तरीय विपणन “घोटाला” चलाने का आरोप लगाया, जहां कंपनी द्वारा पेश किए गए अधिकांश उत्पादों की कीमतें “खुले बाजार में उपलब्ध प्रतिष्ठित निर्माताओं के वैकल्पिक लोकप्रिय उत्पादों की तुलना में अत्यधिक” थीं।

यह भी पढ़े…18 वर्षीय छात्र ने किया सुसाइड, कारण जानकर हर कोई हैरान, पुलिस की जांच जारी।

यह व्यापार का ऐसा मॉडल है जिसमें कंपनी सीधे सामान बेचने की बजाए लोगों को इस वादे पर शामिल करती है कि अगर वो अपनी तरह और सदस्य बनाएंगे तो उन्हें कमीशन दिया जाएगा। ऐसे में कंपनी से जुड़ने वाले नए सदस्यों का फोकस उत्पादों का उपयोग करना नहीं बल्कि सदस्य बनाकर सीधे अमीर बनने पर होता है। इस तरह एक ग्राहक अपने साथ अन्य ग्राहक को जोड़कर पिरामिड बनाता जाता हैं, इस स्कीम में ग्राहकों को सामान की बिक्री पर कमीशन मिलता है। इस पिरामिड चेन में शामिल लोग कंपनी के महंगे प्रोडक्ट्स खरीदने के लिए इसके खूब फायदे बताते हैं. डायरेक्ट सेलिंग उद्योग की प्रमुख कंपनियों में एमवे की की गिनती होती है।