छत्तीसगढ़ में गुलाब का असर, बारिश के साथ ही आकाशीय बिजली ने ली 25 मवेशियों की जान

दंतेवाड़ा, डेस्क रिपोर्ट। गुलाब तूफान के असर के चलते छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में बड़ी संख्या में पशुओं की मौत हो गई। बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान गुलाब का असर नज़र आया है, छत्तीसगढ़ के बस्तर के दंतेवाड़ा, बीजापुर और सुकमा जिले में बिजली की गडग़ड़ाहट के साथ तेज बारिश जारी है, वहीं, दंतेवाड़ा में बिजली गिरने से 25 से ज्यादा मवेशियों की मौत हो गई। पशुधन के नुकसान से किसान-चरवाहे मौके पर ही फफक-फफक  रोने लगे।

दिग्गी के बयान पर मचा घमासान, अब बाल आयोग अध्यक्ष ने की कार्रवाई की मांग, DGP को लिखा पत्र

दंतेवाड़ा जिले के गदापाल गांव में किसान अपने मवेशियों को चराने के लिए गए थे। सभी किसान रोज की तरह पहाड़ी इलाकों में मवेशियों को चरा रहे थे कि अचानक तेज बारिश शुरू हो गई। किसान बारिश से बचने इधर उधर खड़े हो गए, लेकिन मवेशी चरते रहे। इसी बीच अचानक तेज़ गड़गड़ाहट के साथ बिजली मवेशियों पर गिरी और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। पानी गिरने के कारण किसान तुरंत तो मौके पर नहीं पहुंच पाए, लेकिन जैसे ही पानी थोड़ा कम हुआ, सभी मौके पर गए। तब तक 25 से ज्यादा मवेशियों की जान चली गई थी। किसानों ने बताया कि उनका जीवनयापन करने के लिए उनके गाय-बैल बहुत बड़ा सहारा थे।

Video : मंत्री जी ने किसान के पैरों पर सिर रखकर मांगी माफी, जानिये कारण

सोमवार को मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ कमजोर होकर उत्तर आंध्र प्रदेश और आसपास तथा दक्षिण ओडिशा में रात 2.30 बजे से 6 घंटे में 6 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ा है। विभाग के मुताबिक अब तूफान का प्रेशर कमजोर हो गया है, जो घटकर 6 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पर पहुंच गया है। पहले माना जा रहा था ये 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ेगा। मौसम विभाग के अनुसार अगले 12 घंटे के अंदर इस तूफान के और कमजोर होने की भी संभावना है।