Employment-will-be-given-to-youth-across-the-country

भोपाल/नई दिल्ली।

देश में सबसे बड़ा मुद्दा युवाओं को रोजगार देने का है। लोकसभा चुनाव से पहले सभी दल युवाओं के लिए वादों की झड़ी लगा रहे हैं। कांग्रेस ने भी अपनी नई रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। युवाओं के लिए कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने रोजगार देने से पहले एक प्लान तैयार किया है। इसके कांग्रेस देश भर में युवाओं का डाटा बैंक तैयार कर रही है। युवा कांग्रेस ने फैसला किया है कि वह जल्द ही घर-घर जाकर बेरोजगार युवाओं से रोजगार फॉर्म भरवाएगी तथा उनसे कांग्रेस की सरकार बनने पर रोजगार संबंधी मदद या बेरोजगारी भत्ते का वादा करेगी। इस फॉर्म को ‘युवा शक्ति कार्ड’ नाम दिया गया है। 

दरअसल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों में रोजगार के मुद्दे को जोरशोर से उठाने पर मिली सफलता के मद्देनजर कांग्रेस अब लोकसभा चुनाव के लिए देश भर के युवाओं से संपर्क करने और उनसे अपनी सरकार बनने पर रोजगार संबंधी मदद का वादा करने जा रही है। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में कांग्रेस के विभागों एवं अनुषांगिक संगठनों के साथ बैठक में भारतीय युवा कांग्रेस को ‘चलो पंचायत’ अभियान के तहत घर-घर जाकर युवाओं से संपर्क साधने और पार्टी के पक्ष में उन्हें लामबंद करने को कहा। 

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के दौरान तीनों राज्यों के युवाओं से कांग्रेस ने फॉर्म भरवाकर वादा किया था कि उन्हें रोजगार या भत्ते की मदद की जाएगी। इन तीनों राज्यों में सरकार बनने के बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने युवाओं की मदद के लिए युवा स्वाभिमान योजना शुरू की है और इसके लिए फॉर्म भरवाए जा रहे हैं। हालांकि राजस्थान एवं छत्तीसगढ़ में बेरोजगार युवाओं के लिए मासिक भत्ते का ऐलान किया गया है, लेकिन इस पर अभी अमल होना बाकी है। इसी तरह अब लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पूरे देश के युवाओं से यह फॉर्म भरवाकर वादा करेंगी कि कांग्रेस की सरकार बनने पर उन्हें रोजगार दिया जाएगा या बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा, ताकी लोकसभा चुनाव में इसका परिणाम देखने को मिले।