जून से बढ़ गई है परेशानी, पैसों से जुड़े इन 8 नियमों में हो गया बदलाव

सरकारी और गैरसरकारी बैंक जून से लोन की ब्याज दरों और थर्ड पार्टी इंश्योरेंस का प्रीमियम में बढ़त कर रहे हैं। आइए जानते हैं क्या परिवर्तन होंगे -

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। सरकारी और गैरसरकारी बैंक जून से लोन की ब्याज दरों में बढ़त कर रहे है । थर्ड पार्टी इंश्योरेंस का प्रीमियम भी बढ़ चुका है। जानेंगे इन नियमों के विषय में, जो माह जून से आपके बजट को प्रभावित करने वाले हैं –
SBI का होम लोन जून की पहली तारीख से हो गया है थोड़ा महंगा
SBI ने अपने एक्सटर्नल बेंचमार्क लीडिंग रेट्स (EBLR) को 40% बढ़ाकर 7.05% कर दिया है। जबकि RLLR 6.65% प्लस CRP रहेगा। इसके अलावा ऑटोमोबाइल सेक्टर में भी इंश्योरेंस प्रीमियम में भी बढ़त हो चुकी है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अनुसार 1000cc वाले मोटर व्हीकल का इंश्योरेंस प्रीमियम जो पहले 2072 रुपए था वह अब 2094 हो जाएगा। 1000 से 1500cc वाले वाहनों का प्रीमियम जहां 3221 रुपए था वह अब बढ़ कर 3416 रुपए रहेगा।

यह भी पढ़ें – MP पंचायत और निकाय चुनाव : आयोग ने कलेक्टरों को दिए निर्देश, जल्द करें चयन

Axis Bank के धारकों के लिए भी सूचना
सभी सेविंग अकाउंट पर मासिक फीस में हुई है बढ़ोतरी। Monthly बैलेंस मेंटेन रखने वाले चार्जिस भी बढ़ गए हैं। NACH में डेबिट फेल होने पर लगने वाली फीस पहली जुलाई से लागू होगी। एडीशनल चेक बुक लेने पर भी देना होगा चार्ज। मतलब बैंक में खाता रखना होगा महंगा।

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया भी ब्याज दरों में कर चुका है यह बड़े बदलाव
50 लाख रुपए तक का बैलेंस बचत खाते में रखने वाले खाताधारकों को मिलेगा अब 2.75% वार्षिक ब्याज। वहीं 50 से 100 करोड़ तक वालों को मिलेगा 2.90% वार्षिक ब्याज। इस बदलाव से पहले सभी धारकों को 2.90 फीसदी ही वार्षिक ब्याज मिलता रहा है।

यह भी पढ़ें – कोरोना प्रोटोकॉल : फ्लाइट में मास्क नहीं लगाने वालों को करे बाहर, हाई कोर्ट ने बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिया आदेश

इंडिया पोस्ट पेमेंट चार्जेस
आधार एनेबल पेमेंट्स ने भी अपनी दरों में बदलाव किए हैं। अब हर महीने शुरुवाती तीन AEP फ्री होगी, इसके बाद होने वाले ट्रांजेक्शंस पर 5 रुपए से 20 रुपए तक की फीस प्लस gst देना होगा। यह प्रक्रिया 15 जून से शुरू होगी।