उज्जैन: TATA के चेंबर के ढक्कन ने ली घर के इकलौते चिराग की जान,देर रात पार्टी से लौटते वक्त हुआ हादसा

डेस्क रिपोर्ट,उज्जैन। टाटा कंपनी द्वारा शहर में किये जा रहे सीवर लाइन प्रोजेक्ट की खामियों का परिणाम लोगों को अपनी जान से हाथ धोकर भुगतना पड़ रहा हैं। बीती रात युवा वकील अपने दोस्त के जन्मदिन की पार्टी मनाकर बुलेट से लौट रहा था तब जो पाइप लाइन डालने के बाद सड़क रिपेयरिंग के दौरान टाटा कंपनी द्वारा चैम्बर पर लगाये गये ढक्कन से टकराने के बाद करीब 3 फीट उछला, डिवाइडर से टकराया और गंभीर रूप से घायल हो गया।
उसकी बुलट करीब 50 फीट दूर तक फिसलती चली गई। घायल को दोस्तों ने अस्पताल भिजवाया जहां उसकी मृत्यु हो गई। महाकाल पुलिस ने मर्ग कायम कर शव का पीएम कराने के बाद परिजनों को सौंपा है।

उज्जैन: TATA के चेंबर के ढक्कन ने ली घर के इकलौते चिराग की जान,देर रात पार्टी से लौटते वक्त हुआ हादसा

 

पेशे से वकील था अक्षत
अक्षत पिता उमेश शर्मा (23 वर्ष) निवासी क्षीरसागर वकील था। शनिवार को वह अपने दोस्त के जन्मदिन की पार्टी मनाने होटल में गया था। रात करीब 1.30 बजे अक्षत अपनी बुलेट क्रमांक एमपी 13 ईवी 9460 से हरिफाटक ब्रिज से इंदौर गेट की तरफ आ रहा था। उसके दोस्त दूसरे वाहन पर साथ चल रहे थे। इंदौरगेट की तरफ आने के दौरान सड़क पर टाटा कंपनी द्वारा चैम्बर के ऊपर लगाये गये ढक्कन से टकराकर अक्षत की बुलेट करीब 3 फीट उछल गई और 50 फीट दूर जाकर रुकी , जबकि अक्षत उछलने के बाद रोड़ के डिवाइडर से टकरा गया। उसे गंभीर चोंटे आईं। दूसरे वाहन से पीछे आ रहे दोस्त तुरंत रुके और शोर मचाकर आसपास के लोगों को बुलाया।
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि हादसा बहुत भीषण था। अक्षत के सिर व पैरों में गंभीर चोंटे आई थी। एम्बुलेंस को फोन लगाया जिसे आने में करीब 10-15 मिनिट का समय लगा। गंभीर घायल अक्षत को पहले जिला चिकित्सालय ले गये जहां हालत गंभीर होने पर उसे निजी अस्पताल ले जाया गया। रात करीब 2 बजे उसकी मृत्यु हो गई।

ये भी पढ़े-लॉकडाउन में MP में बढ़ा महिला अपराध, Women’s Helpline 181 में 14 हजार मामले दर्ज

पूर्व विधायक का इकलौता पोता था
अक्षत के परिजनों ने बताया कि अक्षत वकालत करता था। उसके दादा नारायण प्रसाद शर्मा महिदपुर के पूर्व विधायक रहे। साथ ही जिला कांग्रेस अध्यक्ष भी रह चुके। पिता वकालत का व्यवसाय करते हैं। वह इकलौता पुत्र था।
गदापुलिया से इंदौरगेट की तरफ आने के दौरान पूरे मार्ग पर टाटा कंपनी द्वारा पिछले दिनों पाइप लाइन डालने का काम किया गया था। काम पूरा होने के बाद 6 स्थानों पर चैम्बर बनाकर उन पर सीमेंटेड ढक्कन लगाये गये हैं साथ ही सड़क की डामर से अधूरी रिपेयरिंग भी की गई है। चैम्बर और सड़क का लेवल सही नहीं करने के कारण कहीं चैम्बर ऊपर निकल आये है तो कहीं चैम्बर के पास गड्ढा हो गया है। इस कारण वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। हरिफाटक ब्रिज की ओर से आने वाले दो पहिया वाहन चालक इन्हीं चैम्बरों के ढक्कन से टकराने के बाद उछलकर दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं। मार्ग पर दुकानें व होटलें हैं जिनके कर्मचारियों ने बताया कि अब तक आधा दर्जन से अधिक वाहन चालक गिरकर घायल हो गये हैं।