Goa Tourism : अब गोवा में खुलेआम नहीं पी सकेंगे शराब! सरकार ने जारी किए नए नियम

गोवा (Goa) में प्रतिबंध को लेकर पर्यटन विभाग ने बड़ा निर्णय लिया है। जिसके बारे में जानना पर्यटकों के लिए बेहद जरुरी है। दरअसल, पर्यटन विभाग ने गोवा में खुलेआम शराब पीने पर प्रतिबंध लगाने के साथ खुले में खाना पकाने पर रोक लगा दी है। इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिए गए है।

goa

डेस्क रिपोर्ट। गोवा घूमने (Goa Tourism) के काफी ज्यादा लोग शौकीन है। हर कोई गोवा जाना जाता है। अगर कोई विदेश ट्रिप पर नहीं जा पता है तो वो वैसा ही लुफ्त उठाने के लिए गोवा घूमने का प्लान बनाते हैं। क्योंकि गोवा में जश्व, कई तरह के इवेंट, नाच गाने, बीच पर एन्जॉय, ड्रिंकिंग, मौज मस्ती सब कुछ की जा सकती हैं। इसलिए यहां सबसे ज्यादा युवा वर्ग के लोग आते हैं।

कुछ लोग तो गोवा में घूमने के साथ साथ ड्रिंक का लुफ्त उठाने के लिए भी गोवा आते हैं। क्योंकि कहा जाता है कि गोवा में सस्ती दारू मिलती है। इसलिए लोग दोस्तों के साथ एन्जॉय करने के लिए और बीच पर बैठ कर शराब पीने का और पार्टी का लुफ्त उठाते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं कर पाएंगे। क्योंकि हाल ही में पर्यटकों के लिए कुछ बदलाव नियम में किए गए है। अगर उन नियमों का पालन नहीं किया गया तो पर्यटकों को हजारों रुपए का जुर्माना देना पड़ सकता हैं। चलिए जानते है क्या है नियम –

गोवा पर्यटन विभाग के प्रतिबंध –

2

गोवा में प्रतिबंध को लेकर पर्यटन विभाग ने बड़ा निर्णय लिया है। जिसके बारे में जानना पर्यटकों के लिए बेहद जरुरी है। दरअसल, पर्यटन विभाग ने गोवा में खुलेआम शराब पीने पर प्रतिबंध लगाने के साथ खुले में खाना पकाने पर रोक लगा दी है। इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिए गए है। ये सब पर्यटन विभाग ने पर्यटन क्षमताओं को खराब होने से बचाने के लिए किया है।

Must Read : उज्जैन : महाकाल के भक्तों जल्द मिलेगी को एक और नई सुविधा, जानें डिटेल

जो आदेश जारी किया गया है उसके अनुसार, गोवा के बाहर जैसे महाराष्ट्र के मालवान और कर्नाटक राज्य के करवर में वाटर स्पोर्ट्स के लिए अनधिकृत टिकट की बिक्री पर रोक लगा दी है। इतना ही नहीं इसके अलावा गोवा में खुले स्थानों पर भोजन पकाने और बाहर बीच पर दारू पीने पर भी रोक लगा दी है।

इसके अलावा कचरा फैलाने, शराब का सरेआम सेवन करना, बोतल फोड़ने सभी चीजों पर रोक लगा दी है। इन सभी चीज़ों की वजह से पर्यटन क्षमताओं कम हो रही है। अगर इन नियमों का उल्लंघन किया गया तो 5 हजार रुपए तक का जुर्माना देना पड़ सकता हैं। इतना ही नहीं ये 50 हजार रुपए तक भी हो सकता हैं। साथ ही कड़ी कार्यवाई भी हो सकती है।