त्यौहारों से पहले 23 लाख पेंशनभोगियों को बड़ी राहत, पेंशन पेमेंट में मिलेगा लाभ

जिससे डिफेन्स पेंशनभोगी पेंशन के लिए दुनिया में कहीं से भी अपने EPFO का इस्तेमाल कर सकें।

पेंशन

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। केंद्र सरकार (Central Government) ने पेंशन धारकों को बड़ी राहत दी है।अब रक्षा विभाग के पेंशनधारकों (pensioners) डिजी लॉकर के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक पेंशन भुगतान आदेश (EPFO) को लिंक कर सकेंगे। इस फैसले से करीब 23 लाख पेंशनरों को फायदा मिलेगा और पेंशन में आसानी होगी।इससे कर्मचारी इलेक्ट्रॉनिक पेंशन पेमेंट ऑर्डर को देख सकेंगे और उसे पा सकेंगे।

यह भी पढ़े.. MP News: 2 पंचायत सचिव समेत 3 सस्पेंड, 13 कर्मचारियों को नोटिस, 2 लाइसेंस भी निलंबित

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) के तहत आने वाले एक्स सर्विसमेन वेलफेयर डिपार्टमेंट ने ईलेक्ट्रॉनिक पेंशन पेमेंट ऑर्डर यानी EPPO को डिजिलॉकर के साथ जोड़ दिया है। इसका फायदा यह होगा कि पेंशनभोगी तुरंत पेंशन भुगतान आदेश प्राप्त कर सकेंगे।इससे 23 लाख डिफेंस कर्मचारियों को पेंशन पाने में आसानी होगी। यह नया नियम प्रिंसिपल कंट्रोलर ऑफ डिफेंस अकाउंट्स (PCDA) पेंशन, इलाहाबाद के लिए लागू किया गया है

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, रक्षा मंत्रालय के भूतपूर्व सैनिक कल्याण विभाग ने कहा कि केंद्र ने ‘ईज ऑफ लिविंग’ को बढ़ाने के लिए डिजी लॉकर के साथ रक्षा लेखा (Defense Accounts) के PCDA पेंशन, इलाहाबाद द्वारा उत्पन्न इलेक्ट्रॉनिक पेंशन पेमेंट आर्डर को लिंक किया है। वहीं अपडेट के अनुसार, पहले डिजी लॉकर में PPO का एक परमानेंट रिकॉर्ड बनाएगी और साथ ही नए पेंशनभोगियों को PPO तक पहुंचने में देरी को समाप्त करेगी।

यह भी पढ़े.. खुशखबरी: दिवाली से पहले कर्मचारियों को 21000 का बोनस, सैलरी में आएगा बंपर उछाल

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, इसके अलावा PCDA (पेंशन), इलाहाबाद को डिजी लॉकर प्लेटफॉर्म के माध्यम से 23 लाख से अधिक रक्षा पेंशनभोगियों के EPFO प्रदान करने के लिए एक सेवा प्रदाता के रूप में रेजिस्टर्ड किया गया है, जिससे डिफेन्स पेंशनभोगी पेंशन के लिए दुनिया में कहीं से भी अपने EPFO का इस्तेमाल कर सकें।

क्या होता है Digi Locker

डिजी लॉकर वह सुविधा है, जिसके तहत कोई भी व्यक्ति अपने सारे डॉक्युमेंटस की सॉफ्ट कॉपी को ऑनलाइन, वेबसाइट या मोबाइल एप्लीकेशन पर सेव कर सकता है। भारत सरकार द्वारा शुरू की गई इस सुविधा के तहत डिजी लॉकर से वैरिफाइड कॉपी को हार्ड कॉपी जैसी ही मान्यता है। डिजी लॉकर में एक User id और Password बनाना होता है। और उसे अपने आधार कार्ड से लिंक करना होता है। डिजी लॉकर के लिए वेबसाइट और ऐप दोनों से रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है।

डिजिलॉकर में ऐसे रख सकते हैं e-PPO

  • कर्मचारियों को अपने डिजिलॉकर अकाउंट को भविष्य सॉफ्टवेयर के साथ जोड़ना होता है, इसके बाद EPFO की सुविधा शुरू हो जाती है।
  • भविष्य सॉफ्टवेयर को डिजिलॉकर से जोड़ने के काम तब होता है जब कर्मचारी रिटायरमेंट का फॉर्म भरता है, फॉर्म जमा करते ही यह सुविधा ली जा सकती है
  • भविष्य सॉफ्टवेयर की मदद से कर्मचारी अपने डिजिलॉकर अकाउंट में साइन इन करेगा और ‘भविष्य’ को EPFO Digilocker में भेजने की अनुमति देगा
  • कर्मचारी का जैसे ही ईपीपीओ जारी होता है, भविष्य सॉफ्टवेयर उसे डिजिलॉकर में भेज देता है,  कर्मचारी और उसके मोबाइल फोन और ईमेल पर भविष्य की तरफ से मैसेज मिल जाता है
  • कर्मचारी को अगर ईपीपीओ देखना है तो अपने डिजिलॉकर अकाउंट में लॉग इन होना होगा वहां दिए गए लिंक पर क्लिक करना होगा