गुड न्यूज : कमजोर हुआ कोरोना वायरस

दिल्ली,डेस्क रिपोर्ट। राहत भरी खबर सामनें आई है कि देश में धीरे-धीरे कोरोना वायरस अब कमजोर पड़ता नजर आ रहा है। इसको लेकर देश में एक अच्छा संकेत सामने आय़ा है। लगातार डेढ़ साल से पूरी दुनिया मे कहर बरपाने वाले कोरोना वायरस ने लाखों जिंदगियां लील ली। लेकिन भारत में अब कोरोना से जुड़ी इस खबर ने राहत दी है। कोरोना वायरस को लेकर भारत की आर वैल्यू 1 से नीचे पहुंच गई है। आर वैल्यू (R Value) उस मानक को कहते हैं जिससे तय होता है कि किसी वायरस का देश में कितनी तेजी से संक्रमण फैल रहा है। जानकारों के अनुसार, आर-वैल्यू ये दर्शाता है कि कोरोना वायरस कितनी तेजी से फैल रही है। सितंबर के मध्य तक ये देश में घटकर 0.92 रह गई।

महंत नरेंद्र गिरि का Suicide Note, लड़की के साथ फोटो जोड़ Viral करना चाहता था आनंद गिरि!

फिलहाल अभी भी देश के प्रमुख शहरों, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु की आर-वैल्यू 1 से अधिक हैं। दिल्ली और पुणे की आर-वैल्यू 1 से नीचे है। महाराष्ट्र और केरल का आर-वैल्यू 1 से नीचे है। इन दो राज्यों में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। इसके साथ ही सबसे ज्यादा एक्टिव केस भी इन्हीं दो राज्यों में हैं। अगस्त के आखिर में देश की आर-वैल्यू 1.17 थी। 4 से 7 सितंबर के बीच आर वैल्यू घटकर 1.11 पर आ गई थी। इसके बाद से आर-वैल्यू लगातार 1 से नीचे है। 11-15 सितंबर के बीच 0.86 रही। महाराष्ट्र और केरल में तेजी से बढ़ रहे मामलों के कारण देश का आर वैल्यू बढ़ गया था। फिलहाल इन दो राज्य़ों में भी पहले के मुकाबले कम मामले सामने आ रहे हैं।

कॉंग्रेस का बड़ा आरोप, भाजपा नेता की अश्लील वीडियो चैट वायरल

इंस्टीट्यूट ऑफ मैथमैटिकल साइंसेज चेन्नई के अनुसार अच्छी खबर यह है कि भारत का आर वैल्यू 1 से कम बना हुआ है जैसा कि केरल और महाराष्ट्र में है दो राज्यों में सबसे ज्यादा सक्रिय मामले हैं। सिन्हा आर-वैल्यू की गणना करने वाले शोधकर्ताओं की एक टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक, मुंबई का आर-वैल्यू 1.09, चेन्नई का 1.11, कोलकाता का 1.04, बेंगलुरु का 1.06 है। यह संख्या या आर यह दर्शाता है कि एक संक्रमित व्यक्ति औसतन कितने लोगों को संक्रमित करता है। दूसरे शब्दों में यह बताता है कि एक वायरस कितनी तेजी से फैल रहा है।