कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, मानदेय में 5 फीसद की वृद्धि, वेतन बढ़कर होंगे 29374 रुपए, केंद्र ने दी मंजूरी

कर्मचारियों की वेतन वृद्धि की तैयारी पहले से की जा रही थी। केंद्र सरकार द्वारा इसकी मंजूरी मिलने के बाद अब कर्मचारियों के वेतन में बड़ा इजाफा देखने को मिलेगा। वही प्रतिमाह उन्हें 20000 रूपए से लेकर 29374 रूपए खाते में भेजे जाएंगे।

cpc

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट। राज्य सरकार द्वारा बड़ी तैयारी के तहत कर्मचारियों (Employees) के वेतन में बढ़ोतरी (salary hike) की गई है। केंद्र सरकार द्वारा वेतन बढ़ोतरी के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है । जिसके साथ ही अब सरकारी कर्मचारियों के मानदेय में 5 फीसद की बढ़ोतरी (honorarium hike) की जाएगी। इस मामले में उपमुख्यमंत्री जानकारी देते हुए कहा है कि इससे कर्मचारी अपनी सेवाएं और अधिक बेहतर तरीके से अपनी सेवाएं देंगे। इसके साथ ही उनके बीच सकारात्मक संदेश पहुंचेंगे।

दरअसल उत्तर प्रदेश के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत संविदा पर कार्यरत स्टाफ नर्स के मानदेय में 5 फीसद की बढ़ोतरी को मंजूरी दी गई है। सरकारी अस्पताल में कुल 4699 स्टाफ नर्स हैं। दिनेश 3652 को मानदेय वृद्धि का लाभ मिलेगा। वहीं 1000 स्टाफ नर्स को अभी नियुक्त हुए 1 वर्ष का समय भी पूरा नहीं हुआ गया है। इस कारण से उन्हें मानदेय वृद्धि का लाभ अभी नहीं मिलकर आगे आने वाले समय में दिया जाएगा।

Read More : MP Board : 10वीं के छात्रों के लिए अच्छी खबर, अब जुड़ेंगे CCLE के अंक, विषयों में मिलेंगे विकल्प, इस साल की परीक्षा के महत्वपूर्ण बदलाव

जबकि पुराने स्टाफ नर्सो को वित्तीय वर्ष 2022-23 में बढ़े हुए मानदेय का लाभ उपलब्ध कराया जाना है। इसके तहत ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और हेल्थ सेंटर में तैनात कर्मचारियों को वरिष्ठता के आधार पर मानदेय वृद्धि के बाद अब 29374 रूपए तक उपलब्ध कराए जाएंगे जबकि अन्य स्टाफ नर्सो को 20000 तक प्रति मानदेय का लाभ उपलब्ध कराया जाना है।

इसके अलावा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद इसकी भर्ती प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक और मंडलीय अपर निदेशक नहीं करेंगे। भर्ती में संख्या में फर्जीवाड़े होने के बाद इसका जिम्मा चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग के निदेशक को सौंपा गया है। भर्ती के साथ-साथ व ट्रांसफर की प्रक्रिया को भी पूरा करेंगे। इसके लिए प्रस्ताव राज्य शासन को भी ले जाना है।