कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, मिलेगा संशोधित वेतनमान का लाभ, सीएम ने दी मंजूरी, खाते में बढ़कर आएगी सैलरी

कर्मचारियों को राज्य सरकार के अन्य कर्मचारियों की तर्ज पर प्रथम जनवरी, 2016 से संशोधित वेतनमान प्रदान किया जाएगा।

employee news

शिमला, डेस्क रिपोर्ट। हिमाचल प्रदेश के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के कर्मचारियों को जल्द संशोधित वेतनमान का लाभ मिलेगा। यह जनवरी 2016 से लागू होगा, इससे करीब 1300 से अधिक कर्मचारी लाभान्वित होंगे।

यह भी पढ़े..हजारों कर्मचारियों-अधिकारियों को बड़ा तोहफा, मिलेगा उच्च वेतनमान का लाभ, मानदेय में भी वृद्धि, 20000 तक बढ़ेगी सैलरी

सीएम जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के निदेशक मंडल की 158वीं बैठक में यह निर्णय लिया गया। इसके तहत हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम (एचपीटीडीसी) के कर्मचारियों को राज्य सरकार के अन्य कर्मचारियों की तर्ज पर प्रथम जनवरी, 2016 से संशोधित वेतनमान प्रदान किया जाएगा। निदेशक मण्डल के इस निर्णय से निगम के 1300 से अधिक कर्मचारियों को प्रति वर्ष 12.40 करोड़ रुपये का लाभ प्राप्त होगा।

सीएम ने कहा कि राज्य सरकार कर्मचारियों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है और यह सुनिश्चित किया है कि कर्मचारियों को उनका बकाया समय पर प्रदान किया जाए। हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने इस वर्ष अप्रैल से जुलाई माह के दौरान 45.91 करोड़ रुपये की आय और लगभग 11.79 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया है। निगम को हाउसमैन, यूटिलिटी वर्कर, सुरक्षा गार्ड/चौकीदार, विशेषज्ञ रसोइया, इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, बढ़ई, राजमिस्त्री, माली और बेलदार आदि की श्रेणियों में आवश्यकता आधारित श्रम शक्ति को काम पर रखने के लिए अधिकृत किया जाएगा ताकि होटल इकाइयों की कार्यप्रणाली को सुव्यवस्थित किया जा सके।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, संगठन ने शुरू की तैयारी, प्रस्ताव हुए मंजूर तो बढ़ेगी सेवानिवृत आयु

सीएम ने निगम की कार्यप्रणाली में व्यावसायिकता लाने की आवश्यकता पर बल देते हुए कर्मचारियों को प्रशिक्षण, पुनश्चर्या पाठ्यक्रम आदि के माध्यम से प्रेरित कर कार्य संस्कृति में बदलाव लाने की आवश्यकता पर बल दिया। कर्मचारियों को खाद्य उत्पादन व सेवा आदि में निपुणता के लिए इन-हाउस प्रशिक्षण और रिफ्रेशर कोर्स आयोजित किए जाने चाहिए। पर्यटन विकास निगम के उपक्रमों के प्रचार के लिए वेबसाइट और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रभावी अभियान चलाया जाना चाहिए।