कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज! 2022 में 8.13% वेतन वृद्धि का अनुमान, सैलरी में आएगा बंपर उछाल

17 सेक्टर में से 14 सेक्टर ने सैलरी में एक अंक के ग्रोथ का संकेत दिया है, यानि 10 से कम औसत वेतन वृद्धि लगभग 8.13 प्रतिशत होगी।  

7th pay commission

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट।Salary Hike 2022. निजी क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों (Employees Salary Hike 2022) के लिए बड़ी खुशखबरी है। इस साल 2022 में औसत सैलरी इजाफा 8.13 फीसदी होने का अनुमान है। इससे कर्मचारियों की सैलरी में बड़ा उछाल देखने को मिलेगा। इसका खुलासा टीमलीज (TeamLease) की वित्त वर्ष 2022 के लिए पेश की गई जॉब्स एंड सैलरी प्राइमर रिपोर्ट में किया गया है।

यह भी पढ़े.. MP: 16 मई से रतलाम से होकर चलेगी 2 स्पेशल ट्रेन, लोकमान्य तिलक टर्मिनस के फेरे बढ़े, इनका रूट बदला

टीमलीज की वित्त वर्ष 2021-22 के लिए ‘द जॉब्स एंड सैलरी प्राइमर रिपोर्ट’ के अनुसार, बीते 2 सालों की तुलना में इस साल 2022 में निजी क्षेत्र में काम करने वाले सभी सेक्टर के कर्मचारियों के सालाना वेतन में 8.13 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हो सकती है। हालांकि, यह वेतनवृद्धि सीमित रहेगी। रिपोर्ट में 17 क्षेत्रों में से 14 क्षेत्रों ने वेतन में 10 प्रतिशत से कम की वृद्धि की संभावना जताई है। वहीं औसत वेतनवृद्धि 8.13 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है।

टीमलीज (TeamLease) की वित्त वर्ष 2022 के लिए पेश की गई यह जॉब्स एंड सैलरी प्राइमर रिपोर्ट  17 क्षेत्रों और 9 शहरों में 2.63 लाख से अधिक कर्मचारियों को मिलने वाले वेतन के अध्ययनन पर तैयार की गई है।17 सेक्टर में से 14 सेक्टर ने सैलरी में एक अंक के ग्रोथ का संकेत दिया है, यानि 10 से कम औसत वेतन वृद्धि लगभग 8.13 प्रतिशत होगी।

यह भी पढ़े.. गुना मामला: इस IPS ने कराई सरकार की किरकिरी, CM शिवराज का सख्त निर्णय, हटाया

इसमें ई-कॉमर्स, प्रौद्योगिकी स्टार्टअप, स्वास्थ्य और आईटी क्षेत्र में सबसे अधिक 10 फीसदी से ज्यादा वेतन वृद्धि की संभावना है। वही भौगोलिक स्थिति के आधार पर अहमदाबाद, बेंगलुरु, दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद, मुंबई एवं पुणे के निजी क्षेत्र के कर्मचारियों की सैलरी में अधिक बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है।

इन क्षेत्रों में वेतन वृद्धि 10% से कम

वही कृषि और कृषि रसायन, ऑटोमोबाइल और संबद्ध, बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं और बीमा, बीपीओ और आईटी सक्षम सेवाएं, निर्माण और अचल संपत्ति, शैक्षिक सेवाएं, तेजी से चलने वाले उपभोक्ता सामान, तेजी से बढ़ते उपभोक्ता सामान, आतिथ्य, औद्योगिक विनिर्माण और संबद्ध, मीडिया जैसे क्षेत्र और मनोरंजन, बिजली और ऊर्जा, खुदरा और दूरसंचार ने 10% से नीचे की वृद्धि की उम्मीद जताई है।