कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, अब मिलेगी ये खास सुविधा, ये रहेंगे नियम, इन्हें मिलेगा लाभ

Railway Employees News: रेलवे कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर है। रेलवे ने कर्मचारियों के हित में बड़ा फैसला किया है, इसके तहत अब कैंसर, लकवा जैसी लंबी बीमारी से जूझ रहे कर्मचारी अब अपने आश्रितों को अपनी नौकरी दे सकते हैं। यह व्यवस्था देश के सभी जोन के लिए प्रभावी की गई है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए कर्मचारियों को कुछ नियमों का पालन करना होगा।

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार, जो रेलवे कर्मचारी लंबी बीमारी से ग्रसित हैं जैसे हाई शुगर, प्रेशर, कैंसर, लकवाग्रस्त और नियमित रूप से सप्ताह में तीन-चार दिन डायलिसिस कराते हैं, लंबे समय से छुट्टी पर अनियमित चल रहे है। वे अब अपने बेटे-बेटी या फिर किसी आश्रित को अपनी नौकरी दे सकते हैं, बशर्ते उनका सेवाकाल 5 वर्ष से अधिक बाकी हो। रेलवे बोर्ड द्वारा पूर्व की 21 साल की सेवा अवधि की बाध्यता को भी हटा दिया गया है।

खास बात ये है कि पहले रेलवे बोर्ड इस योजना का लाभ उन्हीं कर्मचारियों को देता था, जो अपनी 21 वर्षों की सेवा पूरी कर चुके हैं, लेकिन अब यह बाध्यता हटा ली गई है। डी-कैटोगराइज्ड़ कर्मचारी अपनी नौकरी देते हैं, तो उन्हें इसके बदले रेलवे से पेंशन मिलेगा।वही इसका लाभ लेने के लिए कर्मचारी तभी आवेदन कर सकते हैं, जब उन्हें रेलवे की मेडिकल बोर्ड ने डी-कैटेगराइज्ड़ के तहत अनफिट फार आल कैटेगरी (किसी भी श्रेणी में ड्यूटी करने के लिए अयोग्य) घोषित कर दिया हो।