सरकार की नई तैयारी, कर्मचारियों के अवकाश में मिलेगा लाभ, नई व्यवस्था की शुरुआत, पूरी करनी होगी प्रक्रिया

कर्मचारियों के लिए अब नई सुविधा उपलब्ध होगी। उन्हें अवकाश प्राप्ति में इस सुविधा का लाभ दिया जाएगा। कर्मचारी ऑनलाइन ऐप के जरिए अवकाश आवेदन दे सकेंगे।

Employees Holiday Benefit : कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। जिससे उन्हें बड़ा लाभ मिलेगा। अवकाश प्राप्त करने के लिए वह ऑनलाइन आवेदन दे सकेंगे। वहीं कर्मचारी अधिकारी छुट्टी के लिए ऑनलाइन आवेदन देने के साथ ही राज्य शासन से किसी भी तरह का पत्राचार ऐप के जरिए कर सकेंगे।

मध्य प्रदेश के कर्मचारियों को कई तरह के महत्वपूर्ण सुविधा उपलब्ध होगी। सार्थक ऐप कर्मचारियों की लोकेशन के साथ ही साथ उनके अवकाश के आवेदन का महत्वपूर्ण कार्य करेगा। वही कर्मचारी आवेदन करने के साथ ही राज्य शासन से भी पत्राचार कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें अवकाश संबंधित परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी। वहीं उनके काम और समस्या का शीघ्र निराकरण किया जाएगा।

1 सप्ताह में इस पर अमल करने के निर्देश

राज्य शासन द्वारा इसकी तैयारी की गई। वहीं चिकित्सा विभाग के सभी कर्मचारियों के अटेंडेंस मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से लगाने के निर्देश दिए गए हैं। मोबाइल अटेंडेंस लगाने के लिए सभी कर्मचारियों के जीपीएस रिकॉर्ड किए जाएंगे। वहीं डॉक्टर की उपस्थिति के साथ उनके लोकेशन का पता किया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य आयुक्त द्वारा आदेश जारी किए गए थे। 1 सप्ताह में इस पर अमल करने के निर्देश दिए गए थे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और सिविल सर्जन को दिए गए। निर्देश के तहत सभी कर्मचारियों को जीपीएस आधारित सार्थक मोबाइल ऐप से ही उपस्थिति दर्ज करवानी थी। वहीं अब कर्मचारी इसके लिए ऑनलाइन आवेदन भी कर सकेंगे।

इस ऐप के तहत ओपीडी के अनुपस्थित रहने वाले डॉक्टरों की शिकायत लगातार मिलती रहेगी। वहीं सार्थक ऐप उन पर निगरानी रखेगा। हालांकि इसके लिए कर्मचारियों द्वारा लगातार विरोध देखा जा रहा है। मामले में मध्य प्रदेश स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष महेंद्र जैन का कहना है कि कर्मचारी के पास एंड्रॉयड फोन नहीं है कई कर्मचारी मोबाइल फोन चलाना नहीं जानते हैं। ऐसे में ऐप पर उपस्थिति दर्ज कराना किस तरफ अनिवार्य किया जा सकता है। कई कर्मचारी ₹5000 मासिक वेतन पर कार्यरत हैं। उनमें रिचार्ज अधिक आर्थिक भार उठाने की क्षमता नहीं है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क की खासी परेशानी है। जिसके कारण सार्थक ऐप पर उपस्थिति दर्ज कराने का विरोध किया जा रहा है।