Gujarat Election 2022 : गोधरा में गरजे गृह मंत्री नरोत्तम “क्रांति चरखे से आई लेकिन शांति बुलडोजर से आई”

Narottam Mishra In Godhra : गुजरात चुनाव प्रचार अब अंतिम चरण में है।बीजेपी सहित सभी सभी दलों ने प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है । गुजरात के गोधरा जहा कोई भी नेता बोलने से परहेज करता है वहा मध्यप्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा बुधवार को गरजे। उन्होंने कहा कि पढ़ाया गया कि देश में आजादी कि क्रांति महात्मा गांधी के चरखे से आई लेकिन आने वाली पीढ़ी को पढ़ाया जाएगा कि देश में शांति बुलडोजर से आई थी।

गोधरा में ‘अन्य भाषा–भाषी मेल एवं हिंदी समाज सम्मेलन’ को संबोधित करते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद सब बदल कर रख दिया है। सब पलटा करके रख दिया है। देश में ही नही पूरे विश्व में पलटा करके रख दिया हे। एक समय था कि पाकिस्तान के सैनिक आते थे और हमारे सैनिकों के सर काट कर ले जाते थे, फुटबाल बनाकर खेलते थे।

पाकिस्तान कल कश्मीर मांगता था, आज भीख मांग रहा- नरोत्तम 

उस समय के हमारे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शांति की वार्ता करते थे। सफेद कबूतर उड़ाते थे। लेकिन मोदी जी के आने के बाद सब बदल गया अब पाकिस्तान से गोली आती है तो यहा से गोला जाता है। एयर स्ट्राइक,सर्जिकल स्ट्रायिक ऐसा मुंह तोड़ जवाब दिया कि जो पाकिस्तान कल तक कश्मीर मांगता था, आज कटोरा लेकर भीख मांग रहा है।

देश में तुष्टिकरण की राजनीति खत्म

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मोदी जी ने देश में तुष्टिकरण की राजनीति ही खत्म कर कर दी। राजस्थान में कांग्रेस सरकार है, वहा कन्हैया लाल का गला रेत दिया जाता है। किसी आतंकवादी कि हिम्मत है कि मध्यप्रदेश,उत्तरप्रदेश,गुजरात में आ जाय। गुजरात में तो आतंकी का बम फोड़ने की सोचने भर से उसकी पैंट फट जाएगी। उसका पेंट गीला हो जाएगा।

क्रांति चरखे से आई, शान्ति बुलडोजर से आई- नरोत्तम 

गृह मंत्री ने कहा हमे पढ़ाया गया है कि क्रांति महात्मा गांधी के चरखे से आई थी लेकिन आने वाली पीढ़ी पड़ेगी कि शान्ति बुलडोजर से आई थी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल बाबा हो या केजरीवाल सभी का असली चेहरा देश देख चुका है। जेएनयू में जब जब नारे लगे थे की अफजल हम शर्मिंदा है,तेरे कातिल जिंदा है ..तुम कितने अफजल मारोगे हर घर से अफजल निकलेगा। तब यही राहुल बाबा और केजरीवाल उन नारे लगाने वालो से मिलने सबसे पहले पहुंचे थे। हमे इनसे सावधान रहना है ।