आतंकवाद के खतरे को देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने ली उच्चस्तरीय सुरक्षा बैठक

देश में खतरे और सुरक्षा चुनौतियों पर समीक्षा की गई.

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में खतरे और सुरक्षा चुनौतियों को लेकर आज (3 जनवरी) केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने एक उच्चस्तरीय सुरक्षा बैठक बुलाई गई। जिसमें केन्द्रीय गृहमंत्री ने कहा कि केंद्र और राज्य की सुरक्षा एजेंसियों के बीच बेहतर समन्वय और तालमेल बैठाकर काम करना होगा। इस बैठक में प्रमुख तौर पर केन्द्रीय खुफिया एजेंसियों, सीएपीएफ, सशस्त्र बलों के खुफिया विंग, राजस्व और वित्तीय खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों ने भाग लिया। राज्यों/ केन्द्र शासित प्रदेशों के पुलिस महानिदेशक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस मीटिंग में शामिल हुए थे।

हम आपको बता दें कि केन्द्रीय गृहमंत्री ने आतंकवाद के खतरे और वैश्विक आतंकी समूहों, आतंकियों को होने वाली फंडिंग, नार्को-आतंकवाद, संगठित अपराध और आतंकवादियों के बीच गठजोड़, साइबर स्पेस का दुरुपयोग और विदेशी आतंकवादी लड़ाकों की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए, कहा कि सुरक्षा एजेंसियां समय के साथ बदलते आतंकवाद के स्वरूप और सुरक्षा चुनौतियों का बेहतर और प्रभावशाली तरीके से सामना कर पाएं।