लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर शेख सजाद को गृह मंत्रालय ने किया आतंकी घोषित

कश्मीर के युवाओं को गुमराह कर आतंक के रास्ते पर लाने का काम करता था।

नई दिल्ली,डेस्क रिपोर्ट। गृह मंत्रालय (MHA) ने मंगलवार (19 अप्रैल) को आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) के कमांडरों में से एक शेख सजाद (Sheikh Sajad) को गैरकानूनी गतिविधि निवारण अधिनियम (यूएपीए) 1967 के तहत आतंकवादी घोषित करार किया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गैजेट नोटिफिकेशन के जरिए यह ऐलान किया है।

यह भी पढ़े…पुणे से उज्जैन के लिए AC बस में सफर कर रहे माँ-बेटे की संदिग्ध हालातों में मौत- इंदौर में ली आखिरी सांस

आपको बता दें कि मंत्रालय ने बताया कि सजाद जम्मू-कश्मीर के युवाओं को कट्टरपंथी और लश्कर-ए-तैयबा का समर्थक बनाने के साथ भर्ती करने के काम में शामिल रहा है। वह जम्मू-कश्मीर में हथियार और गोलाबारूद की बरामदगी से जुड़े एक मामले में भी फरार है।

यह भी पढ़े…MPTET-शिक्षक भर्ती पर स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा फैसला, उम्मीदवारों को मिलेगा लाभ

गृह मंत्रालय ने बताया कि सज्जाद को 14 जून 2018 को श्रीनगर के व्यस्त प्रेस एन्क्लेव इलाके में अपने दो निजी सुरक्षा अधिकारियों के साथ एक प्रख्यात पत्रकार को मारने में लश्कर के आतंकियों के साथ मिलकर साजिश रचने में शामिल पाया गया था।

यह भी पढ़े…Audi A8 जल्द होगा भारत में लॉन्च, फीचर्स जानकर हो जाएंगे हैरान, जाने कीमत

गौरतलब है कि इसके पहले मंत्रालय ने UAPA 1967 के तहत मुश्ताक अहमद जरगर को आतंकी करार दिया था। जरगर आतंकी गिरोह ‘अलउमर मुजाहिद्दीन’ का फाउंडर और चीफ कमांडर है। जरगर से पहले केंद्र ने 26/11 मुंबई आतंकी हमला मामले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के फाउंडर हाफिज सईद का बेटा हाफिज ताल्हा सईद (Hafiz Talha Saeed) को आतंकी घोषित कर दिया था।