Lok Sabha Election 2024 : कांग्रेस ने जारी किया घोषणा पत्र, नाम दिया “न्याय पत्र”, दी 25 गारंटी

कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र में उन सभी बातों का उल्लेख है जो राहुल गांधी ने भारत जोड़ो न्याय यात्रा में समय समय पर की है, यानि राहुल गांधी जिन मुद्दों की लंबे समय से उठाते रहे हैं , किसानो, युवाओं, बेरोजगारों, महिलाओं को न्याय दिलाने की बात करते रहे हैं उन सभी बातों को एक जगह इकट्ठा कर ये न्याय पत्र तैयार किया गया है ।

Atul Saxena
Published on -
Congress manifesto

Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव 2024 के लिए आज कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया, कांग्रेस ने इसे न्याय पत्र नाम दिया है , पार्टी ने इसे पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदम्बरम की अध्यक्षता वाली चुनाव घोषणा पत्र समिति से तैयार करवाया है। पार्टी का कहना है कि ये न्याय पत्र राहुल गांधी के नेतृत्व में निकली गई भारत जोड़ो न्याय यात्रा में 5 पिलर पर केन्द्रित है इन पिलर से 25 गारंटी निकलती है और यही कांग्रेस का वादा है, पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने पार्टी के कहा कि  हमारा ये “न्याय पत्र” देश की राजनीति के इतिहास में न्याय के दस्तावेज के रुप में याद किया जायेगा।

कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र में उन सभी बातों का उल्लेख है जो राहुल गांधी ने भारत जोड़ो न्याय यात्रा में समय समय पर की है, यानि राहुल गांधी जिन मुद्दों की लंबे समय से उठाते रहे हैं , किसानो, युवाओं, बेरोजगारों, महिलाओं को न्याय दिलाने की बात करते रहे हैं उन सभी बातों को एक जगह इकट्ठा कर ये न्याय पत्र तैयार किया गया है ।

कांग्रेस ने घोषणा पत्र में दी ये 25 गारंटी 

युवा न्याय

1.⁠ पहली नौकरी पक्की – हर शिक्षित युवा को 1 लाख रुपए की अप्रेंटिसशिप का अधिकार

2.⁠ ⁠भर्ती भरोसा – 30 लाख सरकारी नौकरियां

3.⁠ ⁠⁠पेपर लीक से मुक्ति – पेपर-लीक रोकने के लिए नए कानून और नीतियां

4.⁠ ⁠⁠गिग-वर्कर सुरक्षा – गिग वर्कर के लिए बेहतर काम-काजी नियम और संपूर्ण सामाजिक सुरक्षा

5.⁠ ⁠⁠युवा रोशनी – युवाओं के लिए 5,000 करोड़ रुपए का नया स्टार्टअप फंड

नारी न्याय

1.⁠ ⁠महालक्ष्मी – गरीब परिवार की एक महिला को हर साल 1 लाख रुपए

2.⁠ ⁠आधी आबादी, पूरा हक – केंद्र सरकार की नई नौकरियों में 50% महिला आरक्षण

3.⁠ ⁠शक्ति का सम्मान – आशा, मिड डे मील और आंगनवाड़ी वर्कर्स को ज़्यादा सैलरी, दोगुने सरकारी योगदान से

4.⁠ ⁠ अधिकार मैत्री – महिलाओं को कानूनी हक़ और सरकारी योजनाओं की जानकारी देने वाली एक अधिकार-सहेली, हर पंचायत में

5.⁠ ⁠सावित्री बाई फुले हॉस्टल – कामकाजी महिलाओं के लिए दोगुने हॉस्टल

किसान न्याय

1.⁠ ⁠सही दाम – MSP की कानूनी गारंटी, स्वामीनाथन फॉर्मूले के साथ

2.⁠ ⁠कर्ज़ मुक्ति – क़र्ज़ माफ़ी प्लान प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए परमानेंट आयोग

3.⁠ बीमा भुगतान का सीधा ट्रांसफर – फसल नुकसान पर 30 दिन के अंदर सीधे खाते में पैसा ट्रांसफर

4.⁠ उचित आयात-निर्यात नीति – किसानों की सलाह से नई इंपोर्ट-एक्सपोर्ट पॉलिसी बनेगी

5.⁠ GST-मुक्त खेती – किसानी के लिए जरूरी हर चीज से GST हटेगी

श्रमिक न्याय

1.⁠ ⁠श्रम का सम्मान – दैनिक मजदूरी 400 रुपए, मनरेगा में भी लागू

2.⁠ ⁠सबको स्वास्थ्य अधिकार – ₹25 लाख का हेल्थ-कवर: मुफ़्त इलाज़, अस्पताल, डॉक्टर, दवा, टेस्ट, सर्जरी

3.⁠ ⁠शहरी रोजगार गारंटी – शहरों के लिए भी मनरेगा जैसी नई योजना

4.⁠ ⁠सामाजिक सुरक्षा – असंगठित मजदूरों के लिए जीवन और दुर्घटना बीमा

5.⁠ ⁠सुरक्षित रोजगार – मुख्य सरकारी कार्यों में कांट्रैक्ट सिस्टम मजदूरी बंद

हिस्सेदारी न्याय

1.⁠ गिनती करो – सामाजिक व आर्थिक समानता के लिए हर व्यक्ति, हर वर्ग की गिनती

2.⁠ आरक्षण का हक – संवैधानिक संशोधन द्वारा 50% सीमा हटाकर SC/ST/OBC को आरक्षण का पूरा हक

3.⁠ SC/ST सब प्लान की कानूनी गारंटी – जितनी SC/ST जनसंख्या, उतना बजट; यानी ज़्यादा हिस्सेदारी

4.⁠ ⁠जल-जंगल-ज़मीन का क़ानूनी हक़ – वन अधिकार क़ानून वाले पट्टों का 1 साल में फैसला

5.⁠ ⁠अपनी धरती, अपना राज – कांग्रेस उन बस्तियों को अनुसूचित क्षेत्रों में अधिसूचित करेगी जहां आदिवासी सबसे बड़ा सामाजिक समूह हैं


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....