नई दिल्ली| अब गंध और स्वाद की क्षमता में कमी को भी कोरोना वायरस के लक्षण में शामिल कर लिया गया है। केंद्र सरकार ने सूंघने, स्वाद लेने की शक्ति अचानक खत्म होने जैसे लक्षणों को भी कोरोनावायरस (Coronavirus) के लक्षणों (Coronavirus Symptoms) की सूची में जोड़ा है| केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार (13 जून) को यह जानकारी दी।

यानी अब कोरोना वायरस का हमला होने पर मरीज की सूंघने और स्वाद की क्षमता भी चली जाती है। नई सूची के मुताबिक, बुखार, कफ, थकान, सांस फूलना, सूखी खांसी और डायरिया कोरोना वायरस के लक्षण हैं। बता दें, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के लक्षणों की लिस्ट में गंध (एनोस्मिया) या स्वाद (एगुसिया) की हानि को पहले ही शामिल कर लिया है।

मंत्रालय ने कहा कि विभिन्न कोविड-19 उपचार केंद्रों में आ रहे कोरोना वायरस से संक्रमित लोग बुखार, खांसी, थकान, सांस लेने में दिक्कत, बलगम, मांसपेशियों में दर्द, नाक बहने, गले में खराबी और दस्त जैसे लक्षणों की शिकायत कर रहे हैं| उन्होंने सांस संबंधी दिक्कत शुरू होने से पहले गंध और स्वाद महसूस न होने जैसे लक्षणों की शिकायत भी की है.| मंत्रालय ने कहा कि बुजुर्ग लोगों और कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों में थकान, सजगता की कमी, गतिशीलता की कमी, दस्त, भूख न लगना, अचेत होना और बुखार न होने जैसे कुछ अलग लक्षण भी हो सकते हैं| वयस्कों की तरह बच्चों में बुखार या खांसी जैसे लक्षण नहीं दिखे हैं|

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) में इस मुद्दे को कोविड से संबंधित मामलों में राष्ट्रीय टास्क फोर्स में लाया गया था। ऐसा इसलिए किया गया था क्योंकि कोरोना के मामलों में पाया गया है कि रोगियों के सूंघने और स्वाद महसूस करने की क्षमता में कमी आई है। वर्तमान में किसी शख्स का कोरोना टेस्ट लेने के संदर्भ में 13 क्लीनिकल सिंपटम (लक्षण) और संकेत हैं जो पिछले महीने संशोधित किए गए थे। इन लक्षणों में बुखार, खांसी, दस्त, उल्टी, पेट में दर्द, सांस फूलना, नौसिया, रक्तगुल्म (खून का ऊपर उठना), शरीर में दर्द, गले में खराश, सीने में दर्द, नाक से पानी निकलने को शामिल किया गया है। एक या अधिक लक्षणों वाले किसी भी रोगी को टेस्ट की अनुमति दी जाती है। स्वाद और गंध के नुकसान को भी इस सूची में जोड़ा दिए जाने के बाद से अब एक रोगी को परीक्षण करने के लिए एक या उससे अधिक 15 लक्षणों की सूचना देनी होगी।