मोदी सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, इन फसलों-दालों की MSP में वृद्धि, कैबिनेट की मंजूरी, जानें अब कितना हुआ रेट

farmers

Farmers News/MSP Hike : केन्द्र की मोदी सरकार ने लाखों किसानों को एक बार फिर बड़ा तोहफा दिया है। मोदी सरकार ने धान, अरहर, मूंग, उड़द के MSP में भारी वृद्धि की है। इसके लिए आज बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में 2023-24 मार्केटिंग सीजन के लिए खरीफ फसलों के एमएसपी में बढ़ोतरी पर मुहर लगा दी है।खास बात ये है कि इस बार धान पर 7 प्रतिशत एमएसपी बढ़ाई गई है। मोदी कैबिनेट ने दालों की MSP में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी की है।

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि मूंग दाल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सबसे अधिक 10.4%, मूंगफली पर 9%, सेसमम पर 10.3%, धान पर 7%, जवार, बाजरा, रागी, मेज, अरहर दाल, उड़द दाल, सोयाबीन, सूरजमुखी बीज पर वित्त वर्ष 2023-2024 के लिए लगभग 6-7% की वृद्धि की गई है।  दाल के अलावा मक्के की MSP में 128 रुपए की बढ़ोतरी की है।  ग्रेड A धान की MSP में 143 रुपए की बढ़ोतरी की गई है। सामान्य धान की MSP में 143 रुपए की बढ़ोतरी हुई है। बता दे कि MSP भारत में किसानों को उनकी उपज के न्यूनतम मूल्य की गारंटी देती है, ज‍ो क‍िसानों के ल‍िए एक महत्वपूर्ण सुरक्षा का काम करता है।

जानिए किस फसल में कितनी हुई वृद्धि

  1.  कैबिनेट  बैठक में लिए गए फैसले के तहत अरहर दाल के एमएसपी में 400 रुपये की बढ़ोतरी कर 7000 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  2. उड़द दाल की एमएसपी में 350 रुपये की बढ़ोतरी कर 6950 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  3. मूंग के एमएसपी में 10.4 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 7755 रुपये से बढ़ाकर 8558 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  4. खरीफ फसलों जैसे धान(कॉमन) के एमएसपी को 2040 रुपये से बढ़ाकर 2183 प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  5. ग्रेड ए धान के एमएसपी को 2060 रुपये से बढ़ाकर 2203 प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  6. मक्के के एमएसपी को 1962 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 2090 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
  7. कपास और मूंगफली की एमएसपी में 9 फीसदी का इजाफा किया गया है। 

     


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)

Other Latest News