National Legal Services Day 2022 : जानिये राष्ट्रीय विधिक दिवस का इतिहास और महत्व

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज राष्ट्रीय विधिक दिवस (National Legal Services Day 2022) है। राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (National Legal Services Authority) अधिनियम, 1987 की शुरुआत के उपलक्ष्य में ये दिन मनाया जाता है। इसे 9 नवंबर 1995 से मनाया जा रहा है। सभी नागरिकों को उचित निष्पक्ष न्याय प्रक्रिया उपलब्ध हो और इसे लेकर जागरूकता लाने के उद्देश्य से राष्ट्रीय विधिक दिवस मनाया जाता है। इसे राष्ट्रीय कानूनी दिवस भी कहा जाता है।

कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज़, सार्वजनिक अवकाश की घोषणा, आदेश जारी, इतने दिन बंद रहेंगे कार्यालय, मिलेगा लाभ

इस दिन को मनाने की शुरुआत सुप्रीम कोर्ट द्वारा की गई। अदालत का उद्देश्य था कि इस माध्यम से जरुरतमंदों की सहायता की जा सके। आज के दिन लोगों को प्रााधिकरण अधिनियम, न्याय व्यवस्था, कानूनी अधिकारों तथा अन्य प्रावधानों के प्रति जागरूक किया जाता है। लोगों को न्याय मिलना सुनिश्चित हो, ये भी इस दिन को मनाने के पीछे एक महत्वपूर्ण कारण है। अक्सर गरीब वर्ग कानूनी सहायता लेने से बचता है क्योंकि उसे लगता है कि ये क्लिष्ट और महंगी प्रक्रिया है। ऐसे में आज के दिन इस वर्ग को मुफ्त कानूनी सहायता व सलाह भी मुहैया कराई जाती है।

विधिक सेवा दिवस पर अदालतों में प्रदर्शनी, जागरूकता शिविर आदि लगाए जाते हैं। इसके मनाने के पीछे महत्वपूर्ण उद्देश्य है कि  विधिक सेवा प्राधिकरण अधिनियम की विभिन्न धाराओं के बारे में लोगों को जानकारी दी जा सके। हर वर्ग, हर धर्म के लोगों को बिना किसी पक्षपात के निष्पक्ष न्याय प्राप्त हो, यहीं न्यायतंत्र का लक्ष्य है। इसे प्राप्त करने के लिए आज का दिन अहम है। आज हम अपने अधिकारों के बारे में जान सकते हैं साथ ही कर्तव्यों की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। किसी भी देश की न्याय प्रक्रिया वहां के नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण होती है और उससे जुड़ा ये दिन भी बेहद खास है।