देश भर में 12 सितंबर को NEET की परीक्षा, दुबई कुवैत में भी बने परीक्षा केंद्र

दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट।   देश में 12 सितंबर को होने जा रही नीट परीक्षा के लिए छात्रों की तैयारी अब लगभग अंतिम चरण में है, अगस्त मे होने वाली नीट परीक्षा कोविड के चलते आगे बढ़ा दी गई थी,और अब इसे सफलतापूर्वक संपन्न करवाने सरकार की तैयारियां जोरों पर है, शिक्षा मंत्रालय ने नीट परीक्षा के लिए  दुबई और कुवैत मे भी इस बार इस परीक्षा के सेंटर बनाए जाने का फैसला लिया है, हाल ही में शिक्षा मंत्रालय ने इस बात की घोषणा की थी कि कुवैत में भी पहली बार ये परीक्षा आयोजित की जाएगी ताकि मध्य पूर्व के देशों में मौजूद इंडियन स्टूडेंट्स कम्यूनिटी को भी इस परीक्षा में शामिल हो सके। जिसके बाद अब दुबई में भी परीक्षा केंद्र बनाने का फैसला किया गया है। शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक,”नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने दुबई में एक और सेंटर सिटी बनाने जा रहा है। गौतलब है कि इस साल की नीट परीक्षा हर बार से अलग होने वाली है कि क्योंकि इस साल परीक्षा 13 भाषाओं में आयोजित की जाएगी। ये भाषाएं हैं- हिंदी, पंजाबी, असमिया, बंगाली, उड़िया, गुजराती, मराठी, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़, तमिल, उर्दू और अंग्रेजी  इन भाषाओं में पंजाबी और मलयालम नए जोड़े गए हैं। परीक्षा 12 सितंबर 2021 में आयोजित की जाएगी।

Morena News: किसानों से रिश्वत लेते पटवारी का वीडियो वायरल, SDM ने किया निलंबित

कुवैत शहर में पहले ही वर्ष 2021की NEET UG परीक्षा के लिए केंद्र बनाया जा चुका है। शिक्षा मंत्रालय ने विदेश सचिव से पत्र के जरिए ये भी आग्रह किया है कि खाड़ी देशों में रहने वाले भारतीय समुदाय को इन एग्जाम सेंटर्स के बारे में उपयुक्त ढंग से किया जाना चाहिए। साथ ही भारतीय दूतावास को सलाह दी है कि वे निष्पक्ष और सुरक्षित तरीके से परीक्षा आयोजित करने में NTA को अपना पूरा सहयोग दें।

केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा कर लौटे CM Shivraj, महत्वपूर्ण बैठक आज, निगम मंडल में नियुक्तियों पर होगा बड़ा फैसला!

शिक्षा मंत्रालय के नीट  के लिए खाड़ी क्षेत्र के दुबई और कुवैत में नए केंद्रों की घोषणा के  इस बड़े कदम से एनआरआइ अभिभावक और विद्यार्थियों को परीक्षा में शामिल होने के लिए अंतरराष्ट्रीय यात्रा की अफरातफरी और दबाव से राहत मिलेगी। अब ऐसे विद्यार्थियों को परीक्षा देने के लिए विदेश यात्रा नहीं करनी होगी।

खाड़ी देशों में कई भारतीय परिवार रहते हैं और हजारों विद्यार्थियों ने भारतीय मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन दिया है। इन विद्यार्थियों के लिए विशेष कोटा भी आवंटित किया गया है। दुनिया भर में कोविड-19 महामारी और नीट-यूजी परीक्षाओं के लिए केंद्रों की उपलब्धता के अभाव के कारण यह बड़ा फैसला लिया गया है।