मुंबई।

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार में कुछ भी ठीक नही चल रहा है।मंत्रिमंडल विस्तार के बाद जमकर घमासान मच गया है।मंत्री पद को लेकर एनसीपी-कांग्रेस ही नहीं, शिवसेना के विधायकों में भी नाराजगी अब खुलकर सामने आ रही है।शिवसेना कोटे से मंत्री बने अब्दुल सत्तार के इस्तीफे की अटकलों के बीच जालना से कांग्रेस विधायक कैलाश गोरंट्याल ने इस्तीफा दे दिया है।कैलाश के इस कदम के बाद दिल्ली तक हड़कंप मच गया है।वही बयानबाजी ने जोर पकड़ लिया है।

मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से ही कैलाश कैबिनेट में जगह न मिलने से नाराज हो गए थे, इसके चलते उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपने जारी बयान में कहा कि मैंने पार्टी अध्यक्ष को अपना इस्तीफा भेज दिया है। मैं तीसरी बार विधयाक चुना गया हूं और मैंने अपने लोगों के लिए काम किया है, फिर भी मुझे मंत्री नहीं बनाया गया।पार्टी ने मुझे नजरअंदाज किया और मेरे साथ न्याय नहीं किया।विधायक ने दावा किया कि जालना के सभी तहसीलों में कांग्रेस पदाधिकारी पहले ही हट चुके हैं।हालांकि इस्तीफा अभी मंजूर हुआ है या नही इसकी पुष्टि नही हो पाई है।

बता दे कि अभी हाल में उद्धव सरकार में 36 नए मंत्रियों ने शपथ ली थी, जिनमें एक उपमुख्यमंत्री, 25 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्री शामिल हैं। वही  इन मंत्रियों को सीएम उद्धव ठाकरे ने अभी तक विभागों का आवंटन नहीं किया है।कांग्रेस और एनसीपी ही नहीं बल्कि शिवसेना ने भी महाराष्ट्र में मुस्लिम समुदाय को अपने साथ साधे रखने के लिए अपने कोटे से मंत्री बनाया था।