Patanjali case : बाबा रामदेव को सुप्रीम कोर्ट से राहत, मीडिया से बोले- धैर्य रखें, IMA पर भड़का कोर्ट, लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि हमारा मकसद बस इतना है कि लोग सतर्क रहें, बाबा रामदेव में लोगों की आस्था है उसे उन्हें सकारात्मक रूप से इस्तेमाल करना चाहिए। कोर्ट ने आगे कहा कि दुनिया भर में योग को लेकर जो बढ़ावा मिला है उसमें एक योगदान बाबा रामदेव का भी है। जज के ये शब्द सुनने के बाद बाबा रामदेव ने सुप्रीम कोर्ट की बेंच को धन्यवाद और प्रणाम कहा, जिसपर जस्टिस अमानुल्लाह ने कहा कि हमारा भी प्रणाम।

Atul Saxena
Published on -
Baba Ramdev

Patanjali case : भ्रामक विज्ञापनों से संबंधित मामले में आज मंगलवार को हुई सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट के योग गुटु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण को बड़ी राहत देते हुए व्यक्तिगत रूप से कोर्ट पेशी से छूट दे दी, इतना ही नहीं कोर्ट ने योग के क्षेत्र में बाबा रामदेव के योगदान की तारीफ भी की,  उधर सुप्रीम कोर्ट ने IMA  अध्यक्ष के इंटरव्यू पर कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि आपके व्यवहार से हम खुश नहीं हैं, और इतनी आसानी से माफ़ी नहीं दी जा सकती।

जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस अहसानुद्दीन अमानुल्लाह की बेंच ने फैसला सुरक्षित रखा 

सुप्रीम कोर्ट ने योग गुरु बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेदा के एमडी आचार्य बालकृष्ण को अगले आदेश तक व्यक्तिगत पेशी से छूट दे दी है हालांकि बाबा रामदेव और बालकृष्ण पर कोर्ट की अवमानना का मुकदमा चलेगा या नहीं, इस पर सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस अहसानुद्दीन अमानुल्लाह की बेंच ने फैसला सुरक्षित रख लिया।

Continue Reading

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....