शाहीन बाग में धरनास्थल के नजदीक फेंका गया पेट्रोल बम

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक तरफ जनता से 22 मार्च 2020 को देशभर में “जनता कर्फ्यू” यानी स्वयं पर नियंत्रण कर घर से बाहर न निकलने की अपील की थी। लेकिन राजधानी दिल्ली में शाहीन बाग में प्रदर्शनकारी महिलाओं की भीड़ जुटी रही। इसी बीच रविवार को शाहीन बाग के पास सीएए और एनआरसी के विरोध में बैठे प्रदर्शनकारियों पर पेट्रोल बम से हमला किया गया।

दरअसल कोरोनावायरस के चलते जनता कर्फ्यू के आह्वान और शाहीन बाग में प्रोटेस्ट खत्म न करने को लेकर दो गुट आपस में भिड़ गए। दोनों के बीच करीब करीब आधे घंटे तक मारपीट और गालीगलौज भी हुई, इसी बीच शाहीन बाग धरनास्थल के पास पुलिस बैरीकेट पर किसी ने पेट्रोल बम फेंका, जिससे विस्फोट हुआ। इस घटना के बाद वहां हड़कंप मच गया और लोगों में अफरातफरी फैल गई।

बता दें कि दिल्ली में लगभग 3 महीने से अधिक समय से शहीन बाग में सीएए और एनआरसी के विरोध में महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं। लेकिन कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देख उनसे बार बार प्रदर्शन को स्थगित करने की अपील की जा रही है। इसी तनातनी के बीच रविवार को ये घटना हुई। हालांकि इस हमले के समय शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों की संख्या काफी कम थी और किसी को नुकसान पहुंचने की खबर नहीं है। फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है।