पीएम मोदी का कांग्रेस और I.N.D.I.A. गठबंधन पर हमला, कहा- “भारत के खिलाफ किसी से ली सुपारी”, पाकिस्तान ने चूड़िया नहीं पहनी बयान पर बोले “पहना देंगे”

जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए आगे कहा कि कोई मुंबई हमले में पाकिस्तान को क्लीन चिट दे रहा है, कोई सर्जिकल और एयरस्ट्राइक पर सवाल उठा रहा है।

Shashank Baranwal
Published on -
pm modi

Lok Sabha Election 2024: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव प्रचार के लिए बिहार के हाजीपुर, मुजफ्फरपुर और छपरा के सारण सीट के लिए जनसभा की। इस दौरान पीएम मोदी ने मुजफ्फरपुर में कांग्रेस और इंडिया गठबंधन को आड़े हाथों लिया। उन्होंने जमकर विपक्षी पार्टियों पर हमला बोला। पीएम मोदी ने पाकिस्तान के बहाने कांग्रेस नेताओं पर निशाना साधा।

पाकिस्तान को चूड़िया पहना देंगे

दरअसल, लोकसभा चुनाव 2024 के चौथे चरण की वोटिंग आज यानी सोमवार को देश के अलग-अलग हिस्सों में जारी है। वहीं, पीएम मोदी ने बिहार के मुजफ्फपुर में एक जनसभा में कांग्रेस नेताओं और विपक्षी पार्टियों पर जमकर बरसे। इस दौरान उन्होंने कहा कि कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेताओं के कैसे-कैसे बयान आ रहे हैं। कहते हैं कि पाकिस्तान ने चूड़ियां नहीं पहनी हैं। अरे, भाई पहना देंगे। पीएम मोदी ने पाकिस्तान को लेकर कहा कि अब उनको आटा भी चाहिए, उनके पास बिजली भी नहीं, अब हमें मालूम नहीं है कि उनके पास चूड़िया भी नहीं है।

Continue Reading

About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।