PM Modi के पंजाब दौरे पर राज्य सरकार ने गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट में कहा, रूट डायवर्ट करने की नहीं थी सूचना

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक पर पंजाब सरकार ने गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट में कहा रूट डायवर्ट करने की नहीं दी गई थी जानकारी।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के सुरक्षा में बड़ी चूक के बाद पंजाब का दौरा रद्द होने के बाद फिलहाल भारतीय राजनीति में बवाल मचा हुआ है ‌। आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार चल रहा है और बीजेपी और कांग्रेस दोनों लगातार एक दूसरे पर शब्द बाण चला रहे हैं। इसी बीच पंजाब सरकार ने इस मामले की जांच रिपोर्ट तैयार कर गृह मंत्रालय को सौंप दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री के दौरे के कार्यक्रम में चेंज की पूर्व सूचना राज्य सरकार को नहीं दी गई।

यह भी देखें- सुप्रीम कोर्ट पहुंचा PM Modi की सुरक्षा में चूक का मामला, शुक्रवार को हो सकती है सुनवाई

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि प्रधानमंत्री का काफिला कब हुसैनीवाला मार्ग पर जाएगा या या परिवर्तित किया गया इसकी पूर्व सूचना राज्य को नहीं दी गई। रिपोर्ट में एफ आई आर दर्ज कर लिया जाने के बाद भी कही गई है। गौरतलब है कि, पंजाब दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला एक फ्लाईओवर पर लगभग 20 से 25 मिनट तक फंसा रहा, जिसके बाद प्रधानमंत्री का यह दौरा रद्द किया गया।। प्रधानमंत्री का रास्ता रोकने की कोशिश की गई जिसके कारण में 15 से 20 मिनट तक फंसे रहे इसके बाद उन्होंने बठिंडा एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए रवानगी ली।

यह भी देखें- PM Narendra Modi की दीर्घायु के लिए CM Shivraj ने किया महामृत्युंजय जाप

बठिंडा एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि अपने मुख्यमंत्री का धन्यवाद कर देना कि मैं यहां से सुरक्षित लौट कर जा रहा हूं। प्रधानमंत्री के इस बयान को पक्ष और विपक्ष अपने-अपने नजरिए से देख रहा है और इस इस पर लगातार सियासत जारी है। मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि आवागमन के लिए सड़क डाइवर्ट नहीं की गई साथ ही सड़क पर सुरक्षा के लिए जवान भी तैनात नहीं किए गए ऐसे में इसे प्रधानमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक कहा जा सकता है और इसी के चलते प्रधानमंत्री ने अपना दौरा रद्द कर दिल्ली लौटना बेहतर समझा।

यह भी देखें- PM Modi की बड़ी घोषणा- 3 जनवरी 2022 से शुरू होगा 15-18 साल के बच्चों का टीकाकरण

पंजाब सरकार की ओर से अपनी रिपोर्ट में कहा गया कि पंजाब सरकार ने हर मुमकिन कोशिश की है कि प्रधानमंत्री को बेहतर सुरक्षा व्यवस्था दी जाए लेकिन प्रधानमंत्री का रूट कब डायवर्ट किया गया इसकी पूर्व सुचना राज्य सरकार को नहीं थी।