पीएम मोदी ने की 22 मार्च को ‘जनता कर्फ्यू’ की घोषणा

दिल्ली। कोरोना वायरस से एकजुट होकर बचने के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार 22 मार्च जनता कर्फ्यू की अपील की है। उन्होने कहा कि ये कर्फ्यू जनता के लिये जनता के द्वारा होगा। इस दिन सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक हम सभी अपने अपने घर में ही रहेंगे। पीएम मोदी गुरूवार रात 8 बजे कोरोना वायरस की रोकथाम और बचाव को लेकर राष्ट्र को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान पीएम मोदी कोरोना बीमारी को विश्वयुद्ध से भी खतरनाक बताते हुए कहा कि इसने पूरे विश्व और मानवजाति को संकट में डाल दिया है। उन्होने कहा कि प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध में भी इतने लोग प्रभावित नहीं हुए थे जितने पिछले दो महीने में कोरोना से हुए है।

प्रत्येक नागरिक को सजग व सचेत रहने की सलाह देते हुए उन्होने कहा कि आज मैं आप सभी देशवासियों से कुछ मांगने आया हूं। मुझे आपके आने वाले कुछ सप्ताह चाहिये। आपका आने वाला कुछ समय चाहिये। इसे रोकने के लिये दो बातें बहुत जरूरी है, पहला संकल्प और दूसरा संयम। उन्होने कहा कि वे चाहते हैं कि हर नागरिक संकल्प ले कि वो  केंद्र व राज्य सरकार के सभी निर्देशों का पालन करेंगे। संकल्प लेना होगा कि हम संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे। दूसरी बड़ी चीज है संयम। इसमें भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना, सोशल डिस्टेंसिंग इस समय बहुत जरूरी है।

पीएम मोदी ने सबसे आग्रह किया कि जो सरकारी सेवा में हैं, अस्पताल से जुड़े हैं, जनप्रतिनिधि हैं, मीडियाकर्मी हैं उनके अलावा बाकि लोग खुद को आइसोलेटेड कर लें। साथ ही उन्होने विशेष रूप से कहा कि परिवार में जो भी सीनियर सिटिजन हो जिनकी आयु 60-65 से अधिक हो वो घर से बाहर बिल्कुल न निकलें।

22 मार्च को जनता कर्फ्यू के अलावा पीएम मोदी ने ऐसे आपातकाल में आवश्यक सेवाएं मुहैया कराने वाले सभी लोगों का आभार व्यक्त करने का आग्रह भी किया है। उन्होने कहा कि 22 मार्च को जो लोग पिछले दो महीनों से अस्पताल में, एयरपोर्ट पर दफ्तरों में, शहर की गलियों में दिन रात काम में जुटे हैं ऐसे डाक्टर, मीडियाकर्मी, एयरपोर्ट स्टाफ, सफाईकर्मी आदि का धन्यवाद ज्ञापित करना चाहिये। ऐसे सभी लोगों के लिये रविवार 22 मार्च को शाम को ठीक 5 बजे हम अपने घर के दरवाजे पर या बाल्कनी में या खिड़की के पास खड़े होकर 5 मिनिट तक थाली बजाकर, घंटी बजाकर, ताली बजाकर उनका कृतज्ञता ज्ञापन करें। उन्होने राज्य सरकार से भी आग्रह किया कि रविवार शाम 5 बजे ऐसे लोगों का धन्यवाद करने के लिये सायरन बजाएं। साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि इस समय अस्पताल में रूटीन चेकअप या किसी सामान्य सर्जरी से बच सकें तो अच्छा होगा।

कोरोना वायरस से देश की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हो रही है और इससे निपटने के लिये सरकार ने कोविड-19 टास्क फोर्स के गठन का फैसला लिया है। ये टास्क फोर्स अर्थव्यवस्था संबंधित फैसले लेगा। पीएम ने इस समय लोगों से परेशान होकर सामान की जमाखोरी या अतिरिक्त संग्रह न करने की अपील करते हुए कहा कि देश में दूध, खाने का सामान, अन्य आवश्यक सामान, दवाई की सप्लाई मिलती रहे इसके लिये सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

पीएम मोदी ने इस कठिन समय में सभी नागरिकों से एकजुट रहने की अपील करते हुए कहा है कि व्यर्थ की आशंकाओं और अफवाहों से बचें और पूरी समझदारी से इस बीमारी से बचने का प्रयास करें। उन्होने कहा कि अभी हमारी प्राथमिकता कोरोना से बचाव करना है और इसके लिये उन्होने सभी देशवासियों का योगदान मांगा है।